निबंध

स्वच्छ भारत अभियान पर छोटा और बड़ा निबंध

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध
indian asmr

भारत के अभियानों में सबसे बड़ा अभियान है स्वच्छ भारत अभियान है। क्या आप जानते है स्वच्छ भारत अभियान क्या है? अगर नहीं, तो इस लेख में हमने स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध लिखा हैं। तो इस लेख को अंत तक पढ़े।

वैसे तो श्रीमान नरेंद्र मोदी जी ने बहुत से अभियानों की शुरुआत की, ठीक उसी तरह स्वच्छ भारत अभियान सबसे बड़ा अभियान माना जा रहा है।

स्वच्छ भारत अभियान का अर्थ केवल हम भारतीय ही नहीं बाकी पूरा संसार जानता है।

सारे संसार के लोगों में केवल एक यही बात है कि बहुत से लोग स्वच्छ भारत अभियान पर काम कर रहे है और बहुत से लोग इस अभियान को अपने दिमाग में भी नहीं डाल रहे है।

HindiParichay.com पर आज मैं आपके साथ स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध प्रस्तुत करने जा रहा हूँ जिससे आपको इसकी महानता के विषय में पता चल सके।

स्वच्छ भारत अभियान के शुभारंभ पर पीएम का भाषण

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध कैसे लिखें?

स्वच्छ भारत पर छोटे बच्चों से लेकर बड़े सभी के लिए स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध, छोटे बच्चे जैसे कि कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और B.A., B. com आदि सबके लिए Swachh Bharat Essay in Hindi Language में लिखा जा रहा है।

भारत के बहुत से अभियानों का भाग है ये स्वच्छ भारत अभियान लेकिन सभी अभियानों में सबसे ज्यादा जरूरी अभियान “स्वच्छ भारत अभियान” है।

भारत के विभिन्न देशों में ये अभियान शुरू किया जा चुका है। भारत के स्वच्छ भारत अभियान की चर्चा भारत के स्वतंत्र होने से पहले से ही है।

चलिए अब ज्यादा समय व्यक्त ना करते हुए, स्वच्छ भारत पर निबंध पढ़ना शुरू करते हैं।

Role of Students in Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

India Flag

हम भारत जैसे देश में रहते है जहां करोड़ों भारतीय है। प्रत्येक भारतीय ये बात अच्छी तरह जानता है कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत प्रत्येक प्रकार की साफ सफाई की बात की गयी है चाहे वो देश की सड़कें स्मारक आदि हो या देश के सरकारी दफ्तरों आदि में भ्रष्टाचार फैला हुआ हो।

भारत एक ऐसा देश है जहां प्रत्येक नागरिक अपना जीवन अपनी इच्छा अनुसार जी रहा है। प्रत्येक कार्य अपनी मन की इच्छा के आधार पर कर रहा है।

आज के इस लेख में मैं आपको स्वच्छ भारत अभियान निबंध देने जा रहा हूँ।

Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi 200 words

Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

महात्मा गांधी जी का सपना है भारत को स्वच्छ भारत बनाए रखना है। भारत से गंदगी हटाना है, भारत में स्वच्छता लानी है। स्वच्छता हमारे घर से शुरू होती है और सड़कों तक जाती है।

जब भारत में स्वच्छता आएगी तभी जाकर भारत महान बनेगा। साफ सफाई को अपनाना है और गंदगी को हटाना है। भारत की स्वच्छता को बनाए रखने में सभी का हाथ होना चाहिए लेकिन कुछ लोग ऐसे होते है जो कि भारत को और भी ज्यादा गंदा करते जा रहे है, गलत जगह पर फैक्ट्री लगाते हैं, जल को हवा को गंदगी से भर देते है।

भारत में आए दिन नई नई मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है जिससे सब जगह प्रदुषण फैलता जा रहा है। हमें भारत को स्वच्छ बनाए रखने के लिए फैक्ट्रियों को सही जगह लगाना चाहिए जिससे हवा, जल आदि में प्रदूषण न फैलता हो। कूड़े को कूड़ेदान में डालना चाहिए और स्वच्छता के नियम को अपनाना चाहिए।

स्वच्छ भारत का इरादा कर लिया हमने…

Essay on Swachh Bharat in Hindi in 300 Words

Swachh Bharat Abhiyan Nibandh

– स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत पर निबंध

भारत को स्वच्छ बनाए रखने का सपना भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने देखा था और उस सपने को साकार करने का जिम्मा हम सभी पर है और देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने इस अभियान की शुरुआत 02 अक्टूबर 2014 से की।

इस दिन महात्मा गांधी जी की 145वीं जयंती का अवसर था और इस शुभ अवसर पर महात्मा गांधी जी के सपने को साकार किया गया।

भारत में स्वच्छ अभियान को चलाने के लिए सभी भारतवासियों का योगदान देना बहुत ही जरूरी है। भारत में साफ सफाई रखने वाला ही एक अच्छा नागरिक है। भारत में शिक्षा को बढ़ाना बहुत ही जरूरी है जिससे लोगों को ये पता होना चाहिए कि स्वच्छ भारत के होने से ही एक अच्छे और साफ सुथरे देश का अस्तिव बनेगा।

स्वच्छता अपनाने से दुनिया भर की बीमारियों को रोका जा सकता है। स्वच्छता बनाए रखने से एक व्यक्ति के जीवन में बहुत प्रभाव पडता है।

गंदगी को खत्म करने के लिए लोगों को शिक्षा का सहारा लेना, जागरूक होना बहुत जरूरी है और भारत की स्वच्छता को बनाए रखने के लिए कठिन से कठिन नियम को लागू होना आवश्यक है।

अशिक्षित लोग कहीं भी फैक्ट्री खोल लेते है और जल, वायु, ध्वनी प्रदूषण करते है। अशिक्षित लोग कूड़े को कूड़ेदान में न फेंक कर सड़कों पर फेंकते है, इधर उधर थूकते है।

गन्दगी को फैलाने वाले कभी भी स्वच्छता को नहीं अपनाएंगे इसलिए हम सभी को ये कसम खानी है चाहे कुछ भी हो सब जगह स्वच्छता को बनाए रखने में सहयोग देना है।

Speech on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi For Students

Speech on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi For Students

  • प्रस्तावना

स्वच्छता केवल घरों और सड़कों में ही नहीं पूरी दूनिया में होनी चाहिए। स्वच्छता भारत के लिए बहुत ही जरूरी है। स्वच्छता अभियान से सम्पूर्ण भारत अन्य देशों से ज्यादा अच्छा और आर्थिक मामलों में ऊँचा रहेगा। इसी को मध्य रखते हुए भारत सरकार द्वारा स्वच्छ भारत अभियान को लागू किया गया है। यह गांव के प्रत्येक गली गांव की सड़कों की सफाई से लेकर शौचालयों का निर्माण करना है।

  • स्वच्छ भारत अभियान

स्वच्छ भारत अभियान भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने एक सपना देखा था और उस सपने को पूरा करने का जिम्मा हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने लिया था। महात्मा गांधी जी के 145वें जन्मदिन के दिन 02 अक्टूबर 2014 के दिन प्रधानमंत्री जी ने स्वच्छ भारत अभियान शुरू कराया था।

मोदी जी ने राजपथ पर जनसमूहों को संबोधित करते हुए राष्ट्रवादीओं से स्वच्छ भारत अभियान में भाग लेने और इसे सफल बनाने को कहा, साफ-सफाई के संदर्भ में यह सबसे बड़ा अभियान है। साफ-सफाई को लेकर भारत की छवि को बदलने के लिए श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश को इस अभियान से जुड़ने के लिए जन आंदोलन बनाकर इसकी शुरुआत की।

इस अभियान के फायदे के बारे में सम्पूर्ण जनता को बताया। महात्मा गांधी जी का सपना शिक्षा और स्वच्छता को फैलाना था। उनका मानना था कि स्वच्छता भगवान की पूजा है। गांधी जी हमेशा से ही चाहते थे कि स्वच्छता की शिक्षा को सभी आम जनता को प्रदान करी जा सके।

गांधी जी का सपना था कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत वह सभी नागरिकों को एक साथ मिलकर देश को साफ रखने का अभियान चलेंगे।

स्वच्छता के अभियान के अंतर्गत जिस आश्रम में वो रहते थे वहां रोजाना सुबह 4:00 बजे उठकर स्वयं सफाई करते थे। उन्होंने वर्धा आश्रम में अपना स्वयं का शौचालय बनवाया था जिसको प्रतिदिन सुबह-शाम साफ भी किया करते थे।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध कक्षा 10, 11, 12 छात्रों के लिए 1000 शब्दों में

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

स्वच्छ भारत अभियान आधिकारिक रूप से सन् 1999 से चल रहा है पहले इसका नाम ग्रामीण स्वच्छता अभियान था। लेकिन सरकार ने इसका पुनर्गठन करते हुए इसका नाम पूर्ण स्वच्छता अभियान कर दिया था।

1 अप्रैल 2012 को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस योजना में बदलाव करते हुए इस योजना का नाम निर्मल भारत अभियान रख दिया और बाद में स्वच्छ भारत अभियान के रूप में 24 सितंबर 2014 को केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस को मंजूरी मिल गई।

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने भारत को साफ सुथरा बनाने की ठानी थी क्योंकि उन्हें पूरा विश्वास था कि भारत के विकास की नींव केवल भारत की स्वच्छता पर ही आश्रित है।

भारत का विकास संपूर्ण भारत की स्वच्छता पर निर्भर करता है।

स्वच्छ भारत का सपना जो कि महात्मा गांधी जी ने देखा था आज उसे पूरा करने के लिए नरेंद्र मोदी जी के द्वारा महात्मा गांधी जी के 145वे जन्मदिन पर अर्थात 02 अक्टूबर 2014 को इस अभियान का उदघाटन किया गया है। इस अभियान के मुख्य कारण देश में फैली गंदगी को साफ करने के लिए इस अभियान को जारी किया गया।

स्वच्छ भारत अभियान का उदघाटन माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को गांधी जयंती पर किया था। क्योंकि गांधी जी का सपना था कि हमारा देश भी विदेशों की तरह पूर्ण स्वस्थ और निर्मल दिखाई दे।

इस बात को मध्य नजर रखते हुए प्रधानमंत्री जी ने उन्हीं के जन्म दिवस पर इस अभियान की शुरुआत दिल्ली के राजघाट से की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए दिल्ली की वाल्मीकि बस्ती में सड़कों पर झाड़ू लगाई थी। जिससे देश के लोगों में यह जागरूकता आये की अगर हमारे देश का प्रधानमंत्री देश को स्वच्छ करने के लिए सड़क पर झाड़ू लगा सकता है तो हमें भी अपने देश को स्वच्छ रखने के लिए अपने आसपास सफाई रखनी होगी।

इस अभियान का केवल लक्ष्य है कि भारत देश को सम्पूर्ण तरीके से स्वच्छता की और ले जाना है।

स्वच्छता केवल सड़कों, गलियों नालियों, स्मारकों आदि की ही नहीं बाकी सरकारी दफ्तरों में जो भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी है उसे भी खत्म करनी है।

इस अभियान का मुख्य उद्देश्य यह है कि पूरे भारत देश को स्वस्थ एवं साफ-सुथरा बनाया जा सके, इस स्वच्छ अभियान में खुले में शौच करने को लेकर विशेष ध्यान दिया गया है।

आज भी बहुत से गावों में लोग शौच करने के लिए खेतों आदि का प्रयोग करते है, खुले में शौच करते हैं। खुले में शौच करने से विभिन्न प्रकार की बीमारियां हो जाती है ये बात बहुत से लोगों को पता नहीं थी परंतु दिन प्रतिदिन लोगों को जागरूकता हो रही है।

आज लगभग सभी गाँव में शौचालय बन रहे है। स्वच्छ अभियान के अंतर्गत है शहर और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए स्वच्छता अभियान को बनाया गया है।

स्वच्छ अभियान के अंतर्गत शहरों में सार्वजनिक स्थलों जैसे बस स्टैंड, पोस्ट ऑफिस, बैंक, मुख्य बाजार, रेलवे स्टेशन, सरकारी कार्यालयों, अस्पतालों, सरकारी विद्यालयों के आगे आदि के पास सार्वजनिक शौचालय बनाने की योजना है और साथ ही जिन आवासीय कॉलोनियों में घरों में शौचालय बनाने की जगह नहीं है वहां पर सामुदायिक शौचालय बनाने की योजना भी जारी की गयी है।

ग्रामीण क्षेत्रों का देखा जाए तो वहां पर लोग आज भी घरों से बाहर खेतों में खुले मैदानों में शौच करने जाते हैं। इसकी मुख्य वजह उनके घर में शौचालय नहीं होना ही है और शौचालय बनाने के लिए जागरूकता के साथ साथ उनके पास इतनी धनराशि भी नहीं है कि वो अपने घर में ही शौचालय बना लें। इसलिए सरकार ने ग्रामीण इलाकों में प्रत्येक घर में शौचालय बनवाने के लिए प्रत्येक घर को 12000 रुपए देने की योजना बनाई  थी। जिससे वहां के लोग शौचालय का निर्माण करवा सकें और भारत को स्वच्छ करने में अपना सहयोग दें।

आज लगभग 70% से भी ज्यादा गाँव में शौचालय बन चुके है।

स्वच्छ भारत अभियान को देश के हर क्षेत्र मैं पहुंचाने के लिए मोदी जी ने देश के 9 प्रभावी लोगों को चुना है जिनके नाम इस प्रकार हैं:-

  • सचिन तेंदुलकर
  • प्रियंका चोपड़ा
  • महेंद्र सिंह धोनी
  • अनिल अंबानी
  • बाबा रामदेव
  • सलमान खान
  • तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम
  • कमल हसन
  • शशि थरूर आदि व्यक्तियों को चुना गया है।

स्वच्छ भारत अभियान को आगे बढ़ाने में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने भी सरकारी कार्यालयों एवं सार्वजनिक स्थलों पर पान, गुटखा, धूम्रपान, इत्यादि जैसी गंदगी फैलाने जैसे उत्पादों पर भी रोक लगा दी।

अब उत्तर प्रदेश में कहीं भी कोई भी व्यक्ति गुटखा खाकर थूकने में दस बार सोचता है, सरकारी कार्यालयों में लोग पान गुटखा खाकर कहीं भी थूक नहीं सकते है। लोग पान मसाला, गुटखा खाकर इधर उधर सार्वजनिक स्थलों की दीवारों पर थूकते हैं जिससे दीवारें खराब हो जाती हैं।

योगी आदित्यनाथ ने स्वच्छता अभियान में लोगों की रुचि बढ़ाने के लिए सड़कों की साफ सफाई की शुरुआत भी की थी।

स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य क्या है?

स्वच्छ भारत अभियान का मुख्य उद्देश्य जिन्हें सम्पूर्ण भारत को अपनाना चाहिए।

  • खुले में शौच बंद करवाना जिसके तहत हर साल हजारों बच्चों की मौत हो जाती थी।
  • लगभग 11 करोड़ 11 लाख व्यक्तिगत, सामूहिक शौचालयों का निर्माण करवाना जिसमे 1 लाख 34 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे।
  • लोगों की मानसिकता को बदलना उचित स्वच्छता का उपयोग करके।
  • शौचालय उपयोग को बढ़ावा देना और सार्वजनिक जागरूकता को शुरू करना।
  • गांवो को साफ रखना।
  • 2019 तक सभी घरों में पानी की पूर्ति सुनिश्चित कर के गांवों में पाइपलाइन लगवाना जिससे स्वच्छता बनी रहे।
  • ग्राम पंचायत के माध्यम से ठोस और तरल अपशिष्ट की अच्छी प्रबंधन व्यवस्था सुनिश्चित करना।
  • सड़क फुटपाथ और बस्तियां साफ रखना।
  • साफ सफाई के जरिए सभी में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करना।
  • सरकारी दफ्तरों की दीवारों पर गुटखा खाकर थूका हुआ होता था।
10 Lines on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi
  1. खेत खलिहान और खुले में शौच करना बंद करवाना चाहिए। खुले में शौच करने से बीमारियां फैलती है जिसकी वजह से प्रत्येक वर्ष हजारों लोगों की जान खतरे में पड़ जाती है।
  2. लोगों की मानसिकता को बदलना के लिए लोगों को शिक्षित होना बहुत जरूरी है और उचित स्वच्छता का उपयोग करके।
  3. शौचालय उपयोग को बढ़ावा देना और सार्वजनिक जागरूकता को शुरू करना।
  4. शहरों से फ़ैक्टरी को हटा कर ऐसी जगह भेजनी चाहिए जहां आम जनता न रहती हो।
  5. 2020 तक सभी घरों में पानी की पूर्ति सुनिश्चित कर के गांवों में स्वच्छ जल की पूर्ति करने के लिए पाइपलाइन लगवानी चाइए।
  6. ग्राम पंचायत के माध्यम से ठोस और तरल अपशिष्ट की अच्छी प्रबंधन व्यवस्था सुनिश्चित करना।
  7. गाँव व शहर की सड़क और फुटपाथ और बस्तियां साफ रखना।
  8. साफ सफाई के जरिए सभी में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करना।
  9. लोगों को स्वच्छता के फायदे बताने चाहिए।
  10. गांव और शहर को साफ रखना।
स्वच्छ भारत अभियान में मेरा योगदान पर निबंध

स्वच्छ भारत में सभी लोगों का योगदान होना चाहिए और अभी तक सभी आम लोग, सरकारी मंत्रालय के साथ ही प्रधानमंत्री द्वारा सहयोग प्रदान करने वाले लोगों में मृदुला सिन्हा, बाबा रामदेव, शशि थरूर, कमल हासन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा, अमीर खान, अन्य सभी हस्तियों द्वारा ये कदम उठाया जा रहा है।

स्वच्छ भारत के अभियान से भारत में पहले के मुकाबले बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है और स्वच्छता की शिक्षा को दुनिया में फैलाना चाहिए। क्योंकि अब “पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया” और “स्वच्छ भारत का इरादा कर लिया हमने” इस नारे का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।

दोस्तों आज के लेख को पढ़ कर आपको बेहद अच्छा लगा होगा|

आज मैंने आपके साथ Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi Language में शेयर करा है।

आपको स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध अच्छा लगा हो तो देरी मत करो इस लेख को दुनिया भर में फैला दो जितना हो सके उतना शेयर करो।


अन्य निबंध


होली पर निबंध


आतंकवाद पर निबंध


गाय पर हिन्दी में निबंध


माँ पर निबंध

About the author

Hindi Parichay Team

हमारी इस वेबसाइट को पड़ने पर आप सभी का दिल से धन्यवाद, HindiParichay.com में आपको दुनिया भर के प्रसिद्ध लोगों की जानकारी मिलेगी और यदि आपको किसी स्पेशल व्यक्ति की जानकारी चाहिए और किसी कारण वो हमारी वेबसाइट पे न मिले तो कमेंट बॉक्स में लिख दें हम जल्द से जल्द आपको जानकारी देंगे।

1 Comment

  • आपके द्वारा लिखे हुए सभी पोस्ट बहुत ही काम के और हेल्पफुल होते है और आपके लेख को पढ़कर समझना भी बहुत आसान होता है. में अक्सर आपके ब्लॉग को पढ़ती हूँ और आपके द्वारा लिखा हुआ पोस्ट मेरी समझ में आसानी से आता है जिसे में अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करती हु

Leave a Comment