pub-g
निबंध

मेरा प्रिय जानवर कुत्ता पर छोटा और बड़ा निबंध

Dog Images
Subscribe to our YouTube channel 🙏

HindiParichay पाठकों को नमस्कार… यहां आपको वफादार पशु कुत्ता पर निबंध के बारे में जानने को मिलेगा।

अगर आप छात्र हो और आपके विद्यालय में आपसे Dog Essay in Hindi Language में लिखने को बोला है तो हमने कुत्तों पर निबंध लिखा है जिसका उपयोग आप अपने विद्यालय में कर सकते हैं।

About Dog in Hindi

प्राचीन काल से ही जब आदिमानव का जमाना हुआ करता था तभी से कुत्तों की प्रजाति का उपयोग होता है। आज के समय में लोग कुत्ता पालना बहुत पसंद करते है।

प्राचीन काल से ही जब आदिमानव जंगलों में रहा करते थे तभी से वह कुत्तों को अपना पालतू जानवर बनाना सही समझते थे क्योंकि कुत्तों में सुनने और सूंघने की जो ताकत होती है व अन्य कई जानवरों से ज्यादा अच्छी होती है।

कुत्तों की सूंघने की शक्ति बहुत ही अच्छी होती है और वह कच्चे माँस और जानवरों की गंध को सूंघ लेते थे जिससे कि उनके साथ आदि मानव जानवर की गंध को पाकर उन्हें खा जाते हैं और रात में जब आदि मानव अपने कबीले में रात के समय सो जाते थे तब कुत्ते रात भर जाग कर अपने मालिक की रक्षा करते थे।

यह प्रथा आज भी चलती आ रही है, कुत्ता आज भी रात में जाकर अपने मालिक और अपने घर की रक्षा करते हैं, कुत्तों के जैसा जानवर पूरे इतिहास में आज तक नहीं पाया गया है।

किसी भी जानवर पर विश्वास नहीं किया जा सकता लेकिन कुत्ता ही एक मात्र एक ऐसा जानवर है जो कई सालों तक अपने मालिक को नहीं भूलता है और उसके लिए इंतजार करता रहता है। कुत्ता अपने मालिक के लिए वफादार और एक पालतू जानवर साबित हुआ है, कुत्ता मांसाहारी, शाकाहारी दोनों होता है।

Dog Essay in Hindi 10 Lines

Dog Essay in Hindi

सभी के लिए एक कुत्ता पालतू जानवर होता है, उनके पास दो आँख, एक नाक, एक मुंह और दो कान होते हैं, इसके साथ-साथ उसके चार पैर और एक छोटी थी पूछ होती हैं। किसी भी कुत्ता के दांत तेज और नुकीले होते हैं, ताकि वह बहुत आसानी से किसी भी चीज  को चीर-फाड़ सके और अपना भोजन आसानी से खा सके।

कुत्ता बहुत ही चालाक जानवर है और चोरों को पकड़ने और घर की रक्षा करने में बहुत उपयोगी है। कुत्तों की दौड़ने और सूंघने की क्षमता बहुत ही अच्छी होती है, कुत्ता बहुत तेजी से दौड़ता है, प्यार से और जोर से भोक्ता है और अजनबियों पर भौकना हमला करना इसकी खासियत होती है। एक कुत्ता अपने मालिक की रक्षा करता है।

वैज्ञानिकों द्वारा मानित है कि एक कुत्ता का जीवनकाल बहुत ही छोटा होता है। यह लगभग 12-15 साल तक जीवित रह सकता है।

वैज्ञानिकों की मान्यताओं के अनुसार एक कुत्ता का जीवन काल उनके आकार पर निर्भर करता है जैसे कि छोटा कुत्ता लंबा जीवन जीते हैं और बड़ा कुत्ता का जीवन औरों के मुकाबले कम होता है। एक मादा कुत्ता एक समय में 7-8 बच्चे से ज्यादा बच्चे भी दे सकती है और कुत्तों की कुछ नसल ऐसी भी होती है जिसमें वो केवल एक बार में एक ही बच्चे को जन्म देती है और उसे दूध पिलाती है। इसलिए स्तनपायी श्रेणी में कुत्ते आते हैं।

कुत्तों के बच्चे को पिल्ला (puppy) कहा जाता है।

कुत्ता अपने मालिक से बहुत प्रेम करते है, जब भी कुत्ता अपने मालिक को देखता है तो वह अपनी पूंछ हिलाने लगता है और उसकी जीभ बाहर लटकने लगती है, जब तक कुत्ता का मालिक उनके सिर पर हाथ नहीं फेरता वह बेचैन रहते हैं। कुत्ता अपने मालिक से अत्यंत प्रेम करता है।

Essay on Dog in Hindi For Class 1, 2, 3, 4, ,5 ,6 ,7 ,8 , 9, 10, 11, 12

  • मूल तत्व

दुनिया के सभी पालतू जानवरों में कुत्ता सर्वोपरि माना जाता है। एक कुत्ता पालतू जानवर होता है कुत्तों के पास दो आँख, एक नाक, एक मुंह और दो कान होते हैं, उसके साथ-साथ उसके चार पैर और एक छोटी थी पूछ जिसे सब कुत्तों की दुम भी कह सकते हैं।

किसी भी कुत्तों के दांत तेज और नुकीले होते हैं, ताकि वह बहुत आसानी से किसी भी चीज को चीर-फाड़ कर सके और अपना भोजन आसानी से खा सके।

कुत्ता बहुत ही चालाक जानवर है और चोरों को पकड़ने और घर की रक्षा करने में बहुत उपयोगी है।

कुत्तों की दौड़ने की क्षमता बहुत ही अच्छी होता है, कुत्ता बहुत तेज दौड़ता है, प्यार से और जोर से भौंकता है और अजनबियों पर हमला करना इसकी खासियत होती है। एक कुत्ता अपने मालिक की रक्षा करता है।

  • Dog Information in Hindi

वैज्ञानिकों द्वारा मानित है कि एक कुत्ता का जीवनकाल बहुत ही छोटा होता है। यह लगभग 12-15 साल तक जीवित रह सकता है।

वैज्ञानिकों की मान्यताओं के अनुसार एक कुत्ता का जीवन कल उनके आकार पर निर्भर करता है जैसे कि छोटे कुत्ते लंबा जीवन जीते हैं और बड़े कुत्तों का जीवन औरों के मुकाबले कम होता है।

एक मादा कुत्ता एक समय में 7-8 बच्चे से ज्यादा बच्चे भी दे सकती है और कुत्तों की कुछ नसल ऐसी भी होती है जिसमें वो केवल एक बार में एक ही बच्चे को जन्म देती है और उसे दूध पिलाती है।

  • कुत्तों का वर्गीकरण

कुत्तों को उनकी नसल के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है। कुत्तों को उनके काम के अनुसार भी वर्गीकृत किया जाता है जैसे हाउस डॉग, बॉडीगार्ड डॉग, गार्ड डॉग, हेरिंग डॉग, हंटिंग डॉग, मिलिट्री डॉग, पुलिस डॉग, गाइड डॉग, स्निफर डॉग, इत्यादि।

कुत्तों में सूंघने की अद्भुत शक्ति होती है, जिसकी सहायता से पुलिस सुराग को आसानी से खोज लेता है, हत्यारों, चोरों, डाकुओं और बारीक से बारीक चीजों को आसानी से पकड़ सकते है। मिलिट्री कुत्तों को ट्रैक करने और बम का पता लगाने के लिए भी प्रशिक्षित करती हैं। कुत्तों को देशी-विदेशी कुत्तों में भी वर्गीकृत किया गया है।

  • कुत्तों की जरूरत

पालतू कुत्ते को लोग अपने परिवार का हिस्सा मानते है, कुत्तों को घर की रख वाली के लिए भी रखा जाता है, मिलिट्री कुत्तों को सरहदों पर रखा  जाता है, खोजी कुत्तों को हवाई अड्डों, पुलिस स्टेशनों, देश की सीमाओं और स्कूलों में नियुक्त किया जाता है।

पालतू कुत्तों की जरूरत घर की और घर में रहने वालों की रक्षा करने के लिए पाला जाता है।

ट्रैकिंग, हंटिंग और शिकार के लिए कुत्तों की सबसे ज्यादा जरुरत पड़ती हैं। सभी कुत्तों को उनके मानव साथियों के लिए सूंघने, सुनने, देखने और शिकार ढूंढ कर लाने व अपनी रक्षा करवाने के लिए भी प्रशिक्षित किया जाता है।

  • कुत्तों का प्यार

कुत्ता अपने मालिक से बहुत प्रेम करता है, जब भी कुत्ता अपने मालिक को देखता है तो उसकी पूंछ हिलने लगती है और उसकी जीभ बाहर लटकने लगती है। जब तक कुत्तों का मालिक उसके सिर पर हाथ नहीं फेरता तो वह बेचैन रहता है। कुत्ता अपने मालिक से अत्यंत प्रेम करता है।

निष्कर्ष

सम्पूर्ण दुनिया में हर जगह कुत्ता मिलता हैं। कुत्तों की नस्ल विभिन्न प्रकार की होती है और इन नस्ल को देशी और विदेशी नस्ल में वर्गीकृत किया गया है।

कुत्ता बहुत वफादार जानवर है, कुत्ता इतना वफादार होते है कि वो मरते दम तक अपने मालिक को नहीं भूलते है।

मालिक के घर न आने पर कई बार कुत्ते खाना पीना तक छोड़ देते है, इनमें तेज दिमाग और चीजों को सूंघने की तीव्र क्षमता होती है। इनमें पानी में तैरना, ऊंचाइयों से, कहीं से भी कूदना जैसे कई गुण होते हैं।  हमेशा अपने मालिक के लिए वफादार रहते है वो कभी अपने मालिक को नुकसान नहीं देते।

कुत्तों की कबर की कहानी: Dog Story in Hindi

Dog Short Story with Moral

कुत्तों के प्यार की कहानी: यह एक सच्चे और वफादार कुत्ते की कहानी है जिसे पढ़ कर आपके दिल में कुत्तों के लिए प्यार उमड़ जाएगा। यह एक ऐसे कुत्ते की कहानी है जिसका अपने मालिक पर अटूट विश्वास और प्रेम था।

यह कहानी है यूपी के बुलंदशहर जिले की जहां एक कुत्ता की कब्र है, जिसकी लोग सालों से पूजा करते आ रहे हैं।

जी ये बात आपको अजीब बेशक लग रही होगी लेकिन यह एकदम सच है, इस कहानी के चलते मैं इस जगह जा कर भी आया हूँ।

वहाँ कोई भी व्यक्ति किसी कुत्तों पर हाथ नहीं उठाता और कुत्तों की कब्र पर जाकर पूजा करते हैं, इसकी अजब-गजब मान्‍यता है। होली, दीपावली को यहां मेला भी लगता है। दूर-दूर से लोग मन्नत मांगने आते हैं।

Dog Short Story with Moral in Hindi
  1. इस मंदिर को कुत्तों की कब्र के नाम से जाना जाता है। बड़े-बुर्जुग बताते हैं, करीब 100 साल पहले यहां लटूरिया बाबा रहते थे।
  2. उनके साथ एक कुत्ता रहता था। बाबा सिद्ध पुरूष थे, लेकिन उन्‍हें दिखाई नहीं देता था।
  3. बाबा को अगर कोई सामान मंगाना होता था, तो वह कुत्ता के गले में थैला डाल देते थे और कुत्ता बाजार से सामान लेकर आ जाता था।
  4. लटूरिया बाबा ने करीब 100 साल पहले मंदिर वाले स्‍थान पर समाधि ले ली थी। कहा जाता है कि कुत्ता भी उसी समाधि में कूद गया।
  5. लोगों ने उसे बाहर निकाल लिया, लेकिन वह फिर कूद गया। बाबा की समाधि से कुत्ते को जब-जब निकालते थे, तब-तब वह खाना-पीना छोड़ देता था।
  6. लटूरिया बाबा ने प्राण त्यागने से पहले कहा- “सबसे पहले कुत्ता की पूजा होगी, उसके बाद मेरी।” तभी से कुत्ता की पूजा शुरू हो गई।

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको मेरा यह लेख बहुत ही अच्छा लगा होगा और यदि आपको कुत्ता पर निबंध अच्छा लगा है और कुत्तों की कहानी अच्छी लगी होगी तो कृपया शेयर जरूर करें, आपका एक शेयर हमें बहुत मोटिवेट करता है।

– My Dog Essay in Hindi

About the author

Hindi Parichay Team

हमारी इस वेबसाइट को पड़ने पर आप सभी का दिल से धन्यवाद, HindiParichay.com में आपको दुनिया भर के प्रसिद्ध लोगों की जानकारी मिलेगी और यदि आपको किसी स्पेशल व्यक्ति की जानकारी चाहिए और किसी कारण वो हमारी वेबसाइट पे न मिले तो कमेंट बॉक्स में लिख दें हम जल्द से जल्द आपको जानकारी देंगे।

Leave a Comment