भारतीय नेता

राम नाथ कोविंद का जीवन परिचय व उनके द्वारा किये गये कार्य

राम नाथ कोविंद का जीवन परिचय
-विज्ञापन-

राम नाथ कोविंद का जीवन परिचय : रामनाथ कोविंद भारत के 14 वें राष्ट्रियपति हैं|

रामनाथ कोविंद का जन्म 1 अक्टूबर 1945 को हुआ था और वो भारतीय राजनीतिज्ञ है| उनको 20 जुलाई 2017 को राष्ट्रियपति चुना गया.

25 जुलाई 2017 को उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर (J.S. KHEHAR) ने भारत के राष्ट्रियपति पद के लिए शापथ दिलाई थी| वे पहले राज्यसभा सदस्य और बिहार राज्य के राज्यपाल रह चुके हैं.

राम नाथ कोविंद का जीवन परिचय

रामनाथ कोविंद का जन्म उत्तर प्रदेश में कानपुर जिले की तहसील डेरापुर के एक छोटे से गाँव परौखं में हुआ था| कोविंद कोरी (कोली) जाति के हैं जो उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के अन्दर आती है.

वकालत की उपाधि लेने के पश्चात उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत प्रारंभ की| वह 1977 से 1979 में दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्र सरकार के वकील रहे.

8अगस्त 2015 को बिहार के राज्येपाल पद पर उनकी न्युक्ति हुए| उन्होंने संघ सेवा उपयोग परीक्षा भी तीसरे प्रयास में ही पास कर ली थी.

-विज्ञापन-

वर्ष 1999 में भारतीय जनता पार्टी में सम्मिलित हो गए| वर्ष 1994 में उत्तर प्रदेश राज्य से राज्य सभा के लिए निर्वाचित हुए वर्ष 2000 में पुन: उत्तरप्रदेश राज्य से राज्यसभा के लिए निर्वाचित गए.

इस प्रकार 12 वर्षों तक राज्यसभा के सदस्य बने रहे | कोविंद जी ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए राष्ट्रिय प्रवक्ता के रूप में काम भी किया.

राम नाथ कोविंद की शिक्षा – Ramnath Kovind’s Education

Ram Nath Kovind Biography in Hindi

रामनाथ कोविंद ने अपनी पढ़ाई कानपुर विश्वविधालय से हांसिल की है उन्होंने बी.कॉम (B.COM) और एलएलबी (LLB) की डिग्री हांसिल की है.

कानपुर से पढाई ख़तम करने के बाद उन्होंने दिल्ली आने की सोची और आगे की पडाई के लिए उन्होंने आईएस ( IAS) की परीक्षा पास करने के लिए सोचा मगर ऐसा हो न सका.

उन्हें शुरू में आईएस में असफलता ही मिली वो करीब दो बार असफल रहे पर उन्होंने हार नहीं मानी और आखिर में तीसरी बार आईएस की परीक्षा पास कर ही ली.

हालाँकि उन्हें आईएस (IAS) का पद नहीं मिला और उन्होंने कोई नौकरी नहीं की और नौकरी के बजाय कानून (law) का अभ्यास करना ही सही लगा.

  1. वकालत में करियर : उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट (HIGH COURT) में वकालत और केंद्र सरकार के वकील रहते हुए काम किया| 1977 से 1979 तक दिल्ली हाई कोर्ट में काम किया | साल 1980 से 1993 के दौरान केन्द्रीय सरकार के स्टैंडिंग कौंसिल की तरफ से इन्होने सुप्रीम कोर्ट में भी अभ्यास किया.
  2. सांसद के पद पर : साल 1994 के अप्रैल के महीने में इन्हें उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद के रूप में चुना गया| अपनी कुशल कार्यक्षमता से इन्होने इस साल लगातार 2 बार राज्यसभा सांसद का पद हासिल किया और उन्होंने अपना कार्यकाल 12 वर्ष तक किया जो की 2006 तक पूरा हो चूका था.

राम नाथ कोविंद द्वारा किये गए कार्य – History of Ramnath Kovind in Hindi

वैसे तो राज्यसभा के पद पर उन्होंने काम किया ही था मगर साथ में उन्होंने राज्यसभा के विशिष्ट पदों पर भी काम किया.

पदों के नाम निम्नलिखित हैं|

-विज्ञापन-
  1. अनुसूचित जाति और जनजाति पार्लियामेंट कमेटी|
  2. होम अफेयर्स पार्लियामेंट कमेटी|
  3. पेट्रोलियम और नेचुरल गैस पर्लिनटरी कमिटी|
  4. सोशल जस्टिस और एम्पोवेर्मेंट पार्लियामेंट कमिटी|
  5. लॉ और जस्टिस पार्लियामेंट कमिटी|
  6. राज्यसभा चेयरमैन|
  7. डॉ भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी में मैनेजमेंट बोर्ड के सदस्य के तौर|
  8. कोलकाता के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट के मेम्बर ऑफ़ बोर्ड के पद पर भी काम किया|

इसके अलावा इन्होने साल 2002 के अक्टूबर में यूनाइटेड नेशनल जनरल असेम्बली में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया.

समाज सेवा – Ramnath Kovind Biography in Hindi

वह “भाजपा दलित मोर्चा के राष्ट्रिय अध्यक्ष” और “अखिल भारतीय कोली समाज के अध्यक्ष” भी रहे | सन् 1986 में दलित वर्ग के क़ानूनी सहायता ब्यूरो के महामंत्री भी रह चुके है.

भारत के राष्ट्रियपति रामनाथ कोविंद का जीवन परिचय

19 जून 2017 को सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन द्वारा भारत के राष्ट्रियपति पद के उम्मीदवार घोषित किये गये|

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कांफ्रेस करके उनके उम्मीदवारी की घोषणा की और अमित शाह ने कहा की रामनाथ कोविंद दलित समाज से उठ कर आयें हैं और उन्होंने दलित समाज के लिए बहुत कुछ किया है और पेशे से तो एक वकील है जिसकी वजह से उन्हें संविधान का उच्च ज्ञान भी है.

इसलिए वे एक अच्छे राष्ट्रियपति सिद्ध होंगे और आगे भी मानवता के कल्याण के लिए काम करते रहेंगे|

20 जुलाई 2017 को राष्ट्रियपति के निर्वाचन का परिणाम घोषित हुआ जिसमे कोविंद ने यूपीए की प्रत्याशी मीरा कुमार को लगभग 3 लाख 34 हजार वोटों से हराया| कोविंद को 65.65% फीसदी वोट प्राप्त हुए.

भारत के 13वे राष्ट्रियपति प्रणव मुखर्जी के पश्चात 25 जुलाई 2017 को भारत के 14 राष्ट्रियपति के रूप में शपथ ली| और अपना कार्यकाल शुरू किया है.

राम नाथ कोविंद की जीवनी का यह लेख यही समाप्त होता है| अगर आपको लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर जरुर करें और अथवा आपको इनके बारे में कुछ पता है तो कमेंट के माध्यम से अपनी जानकारी हम सब के साथ शेयर करें| धन्यवाद|

अन्य जीवन परिचय⇓

About the author

Hindi Parichay Team

हमारी इस वेबसाइट को पड़ने पर आप सभी का दिल से धन्यवाद, हमारी इस वेबसाइट में आपको दुनिया भर के प्रशिद्ध लोगों की जानकारी मिलेगी और यदि आपको किसी स्पेशल व्यक्ति की जानकारी चाहिए और किसी कारण वो हमारी वेबसाइट पे न मिले तो कमेंट बॉक्स में लिख दें हम जल्द से जल्द आपको जानकारी देंगे|

Leave a Comment