Advertisement Ad
गणतंत्र दिवस

Republic Day Speech 2022 in Hindi for Students | 26 January 2022 Republic Day Speech Hindi – गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022

Republic Day Speech in Hindi

नमस्ते, HindiParichay.com में आज हम आपके लिए Republic Day Speech in Hindi का एक शानदार भाषण लेकर आए है जिसका उपयोग आप आने वाले गणतंत्र दिवस 2022 के दिन कर सके। तो लेख को अंत तक पूरा पढ़ें और Republic Day Speech 2022 in Hindi, 26 जनवरी पर शानदार भाषण 2022, 26 जनवरी पर भाषण हिंदी में 2022, Republic Day Essay 2022 in Hindi, इत्यादि की जानकारी प्राप्त करें।

26 January 2022 Republic Day Speech in Hindi

26 जनवरी गणतंत्र दिवस के राष्ट्रीय पर्व पर यदि आपको अवसर मिला है कि आप अपने स्कूल एवं कॉलेज और किसी भी सरकारी समारोह में अपने भारत देश के प्रति प्रेम को प्रकट करते हुए गणतंत्र दिवस पर कुछ पंक्तियाँ अपने देश के लिए बोलना चाहते है तो आप 26 जनवरी पर भाषण यहां से देख सकते है।

गणतंत्र का मतलब क्या है?

गणतंत्र दिवस का अर्थ बड़े ही सरल शब्दों में कहना चाहूँगा जिसे आप केवल एक पल में समझ जाएंगे।

गणतंत्र दिवस का अर्थ “गण + तंत्र” है। “गण” शब्द का अर्थ जनता, लोग, आम लोग और “तंत्र” का अर्थ है कि लोगों की अपनी शक्ति और अपने सोच विचार से चलने वाली सोच है।

भारत की आजादी के बाद अगर संविधान लागू न किया गया होता तो शायद आज भी भारत अन्य देशों से बहुत ही पीछे होता और उसे एक पिछड़ा देश माना जाता। लेकिन कुछ क्रांतिकारी नेताओं के चलते आज हम एक पूर्ण संविधान के अंतर्गत रहते है और किसी भी तरह की कोई असमानता महसूस नहीं करते है। भारत में अनेकों जाति धर्म के लोग अपना जीवन व्यतीत करते है और आजादी के साथ इस जीवन को जीते है।


आपके लिए⇓

एक संविधान के लागू होने का महत्व केवल उनको ही पता होता है जिन्हें अपने स्वाभिमान और आत्मसम्मान की चिंता होती है। केवल यही नहीं बल्कि संविधान में जाति धर्म, छुआछूत, ऊँच-नीच सभी प्रकार के गुण अवगुण को बराबर समझती है। यहां तक की अगर कोई किसी की आजादी को छीनने की कोशिश करता है तो सरकार अपने नियमों के अनुसार उस पर कड़ी कार्यवाही करती है।

न्याय प्रिय देश होने के नाते सभी भारतवासी लोग अपने देश को प्रेम करते है और भारत देश में रहना पसंद करते है। यह जो गणतंत्र दिवस (भारत) है ये केवल एक साधारण रूप से माना जाने वाला दिवस नहीं है। एक स्वतंत्रता दिवस और एक गणतंत्र दिवस पूरे भारत का इतिहास दुबारा से दोहराते है और सभी को ये बताते है कि आप लोगों की जरूरतों को समझते हुए मैंने ये सोचा है कि सभी भारतवासियों के लिए 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भाषण लिखा जाए। मैंने यहां छोटे बच्चों से लेकर बड़े तक के लिए रिपब्लिक डे स्पीच लिखी हैं। हर कक्षा के बच्चों के लिए 26 जनवरी पर निबंध और गणतंत्र दिवस पर कुछ शब्दों को लिखा गया है।

Some Speech on Republic Day in Hindi For Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 इस तरह से इंटरनेट पर खोजे जाते है व स्कूलों के प्रोग्राम व प्रतियोगिता में भाग लेते है। भारत के सभी विश्वविद्यालय में समारोह आदि में Republic Day Speech in Hindi में बोले जाते है। आपकी जरूरतों को देखते हुए मैंने 26 जनवरी के दिन के लिए भाषण लिखा है।

स्कूल एवं कॉलेज में आपसे Republic Day Speech in Hindi 2022, Republic Day Speech in English Font, Speech on Gantantra Diwas in Hindi (Republic Day Essay in Hindi For class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11 और class 12 को लिखने को कहा जाता है। इस तरह से इंटरनेट पर सर्च करते है व स्कूलों के प्रोग्राम में भाग लेते है।

आइये देखें कुछ Some Sentences on Republic Day in Hindi, Most Popular Speech on Republic Day 2022 in Hindi.

बच्चों को विद्यालय में रिपब्लिक डे के अहम मौके पर जब भी कुछ लिखने का अवसर मिलता है या फिर गणतंत्र दिवस का शुभ अवसर पर भाषण बोलने का अवसर मिलता है तो वो इस मौके पर गणतंत्र दिवस की कुछ ऐसी पंक्तियां बोलना पसंद करते है जिन्हें सुनना लोगों को बहुत पसंद है।

गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर लोगों को जब भी भाषण बोलने का अवसर मिलता है तो गणतंत्र दिवस के भाषण के लिए बच्चों को मंच पर पहुँच कर सबसे पहले तो अपने सभी आदरणीय आगंतुकों मेहमानों, मित्रों, अध्यापकों को सुबह की नमस्कार करनी है और अपना नाम और किस कक्षा में पढ़ते है यह भी बताना है। आप किसी भी आयोजन में ऐसा 26 जनवरी का भाषण बोल सकते है। आप जब भी गणतंत्र दिवस के तथ्य के लिए या फिर किसी भी देशभक्ति भाषण के लिए कुछ पंक्तियाँ लिखने वाले हो तो आपके लिए यह लेख बहुत ही लाभदायक रहेगा।


Speech on Republic Day in Hindi 2022

26 January Republic Day Speech 2022 in Hindi:

नमस्कार मेरे प्रिय सभी अध्यापकगण, सभी आमंत्रित आगंतुकों और मेरे प्रिय मित्रों को भारत में गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी को मनाया जाता है। आज हम सभी यहां भारत के गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर प्रस्तुत है और आज मुझे गणतंत्र दिवस जैसे राष्ट्रीय पर्व पर कुछ पंक्तियां बोलने का अवसर मिला है।

भारत के इतिहास में 26 जनवरी सन् 1950 को भारत का गणतंत्र दिवस मनाया गया था। इस दिन भारत के संविधान का अस्तित्व भारत में आया था। तभी से भारत के अपने नियम और अपने कानून लागू किए गए। 26 जनवरी 1950 से ही भारत में लोकतंत्र और प्रजातंत्र का अस्तित्व आया। भारत के लिए यह एक बहुत ही गर्व की बात है कि हम आजाद है और अपने संविधान के साथ जी रहे है।

Grammarly Writing Support
धन्यवाद

26 जनवरी 2022 का भाषण हिंदी में

26 जनवरी के सुनहरी सुबह का नमस्कार मेरे प्रिय सभी अध्यापकगण, सभी आमंत्रित आगंतुकों और मेरे प्रिय मित्रगण को भारत के गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। आज हम सभी यहां भारत के गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर प्रस्तुत है और आज मुझे गणतंत्र दिवस जैसे राष्ट्रीय पर्व पर कुछ पंक्तियाँ बोलने का अवसर मिला है। भारत की आजादी 15 अगस्त 1947 को हुई थी और 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किए गए थे। प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी को मनाया जाता है। भारत के इतिहास में 26 जनवरी सन् 1950 को भारत का लोकतंत्र एक भारतीय के अधिकार के लिए गणतंत्र दिवस मनाया गया था।

इस दिन भारत के संविधान का अस्तित्व भारत में आया था। तभी से भारत के अपने नियम और अपने कानून लागू किए गए। 26 जनवरी 1950 से ही भारत में लोकतंत्र और राजतंत्र का अस्तित्व आया। भारत के लिए यह एक बहुत ही गर्व की बात है कि हम आजाद है और अपने संविधान के साथ जी रहे है।

 जय हिन्द, जय भारत
आपके लिए, इसे जरूर पढ़ें
National Anthem of India in Hindi

Gantantra Diwas Par Bhashan

दिल चीर देने वाला भाषण 26 जनवरी पर जो कभी कहीं भी न सुनी हो। दोस्तों, 26 जनवरी के दिन जब दुनिया गणतंत्र दिवस की खुशियां मना रहा होगा तब आपको देशभक्ति दिखाने का मौका मिलेगा अपने विद्यालय, कॉलेज में या फिर किसी भी सरकारी दफ्तर में गणतंत्र दिवस की खुशी में देशभक्ति भाषण देने का सुनहरा अवसर मिलेगा। देश भक्ति भाषण जिसे दुनिया याद रखे, ऐसा भाषण जिसे सुन कर हर किसी की रूह हिंदुस्तान जिंदाबाद बोल उठे। तो चलिए दोस्तों आगे बढ़ते है।

भाषण देने से पहले जरूरी सूचना👉 यदि आपका नाम लिया जाए तो जब आप स्टेज तक पहुंचे तब आपको स्टेज का कदम चूमना होगा और यदि आप लड़के है आपकी शर्ट का बटन व आपका पहनावा अच्छा होना चाहिए और यदि आप लड़की है तो आपका पहनावा घरेलू होना चाहिए जो भारतीय नैतिकता को दर्शाता हो। आपके जूते अच्छे से पोलिश होने चाहिए, आपकी आवाज में दम होना चाहिए, आपकी आवाज इतनी बुलंद होनी चाहिए की किसी भी माइक आदि की जरूरत न पड़े।

26 जनवरी पर शानदार भाषण 2022

स्टेज पर जाने के बाद:

जय हिन्द, मेरे सभी अध्यापकगण, अतिथिगण व मेरे प्रिय सहपाठियों आप सभी को भारत के 73वें गणतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएंआज का दिन हम सभी के लिए बेहद ही खास है। पहले तो मैं आप सभी का धन्यवाद करना चाहूँगा की आपने मुझे आज 26 जनवरी के दिन कुछ पंक्तियाँ बोलने का सुनहरा अवसर दिया है इसके लिए आप सभी का धन्यवाद।

भारतीय गणतंत्र दिवस भारत के इतिहास मे सबसे ज्यादा अहम दिवस माना जाता है। भारतीय गणतंत्र दिवस स्वतंत्रता दिवस के बाद आया। 15 अगस्त 1947 को भारत की आजादी के बाद 26 जनवरी 1950 के दिन हमारा भारतीय संविधान लागू किया गया। भारतीय संविधान लागू होने के बाद भारत में अपना लोकतंत्र आया और आज हम अपने मौलिक अधिकारों के साथ जी रहे है।

मैं आज आपसे कुछ बातें कहना चाहता हूँ जो की बेहद ही जरूरी है। भारत की आजादी के बाद हम सभी आजाद है और अपने जीवन को अच्छे से जी रहे है। लेकिन कहीं न कहीं आज प्रत्येक घर में लोग इतने व्यस्त है की किसी के पास इतना भी समय नहीं है की कोई भारत का इतिहास उठा कर देख सके जिससे उन्हें पता चले की भारत की आजादी के पीछे कितना कठोर संघर्ष था। भारत की आजादी में कितने लोगों के खून बहे, जाने गई और उन्होंने भारत की आजादी में सबसे अहम भूमिका निभाई। भारत के इतिहास में लोगों के साथ हुए अन्याय को कोई बयान नहीं कर सकता है वो केवल किताबों में छप कर रह गयी है।

भारत में ब्रिटीशियों के शासन की वजह से हुए अत्याचारों से छुटकारा पाना बेहद ही मुश्किल था। उस समय बेहिसाब कर लगाने की प्रथा थी जिससे किसान लोगों के हक की जमीने उनके हक को मारा गया था। कभी समय मिले तो आप भारत के इतिहास के पन्नों को खोल कर देखना। खैर ये सब बातें दिल को दहला देती है।

भारत में गणतंत्र दिवस के दिन हमारा देश पूर्ण गणतंत्र राष्ट्र घोषित हुआ था। भारत की आजादी की लंबी लड़ाई और लाखों के बलिदान के बाद 15 अगस्त के दिन सन् 1947 को हमारा भारत देश पूर्ण स्वतंत्र हुआ। हमारे देश के पास अपना कोई लिखित संविधान था ही नहीं, बिना किसी संविधान के, बिना किसी कानून व नियम के लोग रहा करते थे। बिना कड़े कानून के जीने मानो पशु समान था और फिर अनुशासन की जरूरत पड़ी और फिर सबके विकास के लिए कायदे कानून को स्थापित किया गया। फिर संविधान सभा का गठन हुआ, जिसमें 299 सदस्य थे। इसकी अध्यक्षता डॉक्टर भीमराव आम्बेडकर ने की थी। इसकी पहली बैठक 1946 के दिसंबर महीने में हुई थी और 2 साल 11 महिने 18 दिन में अन्ततः 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हुआ और फिर कहीं जाकर 26 जनवरी 1950 को पूरे देश में लागू कर दिया गया।

26 जनवरी का इतिहास भी आसान नही था। आखिर क्यों 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस के लिए चुना गया। इसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण है। आज ही के दिन, 26 जनवरी 1930 में लाहौर अधिवेशन में कांग्रेस ने रावी नदी के तट पर पूर्ण स्वराज की घोषणा की गयी थी। आज के समय में हमारा संविधान पूरे संसार का सबसे बड़ा लिखित संविधान है, जिसे अलग-अलग देशों के संविधानों को पढ़ने के बाद, उनकी अच्छी बुरी बातों को समझने के बाद बहुत सोच समझ कर ग्रहण किया गया है।

संविधान पर सबसे ज्यादा प्रभाव भारत सरकार अधिनियम 1935 का पड़ा। हमारे 395 अनुच्छेदों में से 250 तो इसी से लिया गया है। ‘संसदीय व्यवस्था’ ब्रिटेन से, ‘मूल अधिकार’ अमेरिका से, ‘राष्ट्रपति की निर्वाचन पध्दति’ आयरलैंड से, ‘गणतंत्रीय ढाँचा’ और ‘स्वतंत्रता समता बंधुत्व’ फ्रांस से, ‘समवर्ती सूची’ आस्ट्रलिया से, ‘आपातकाल’ जर्मनी से, ‘राज्यसभा’ दक्षिण अफ्रीका से, सोवियत संघ से ‘प्रस्तावना’ लिया गया है।

भारतीय संविधान के मूल संविधान में 395 अनुच्छेद, 22 भाग और 8 अनुसूचियां थी। हमारा देश संसदीय कार्य-प्रणाली पर आधारित है, जिसका प्रमुख संसद है, अर्थात देश की शासन-प्रणाली का सर्वोच्च संसद है। संसद के तीन भाग है- लोकसभा, राज्यसभा और राष्ट्रपति। वर्तमान में 395 अनुच्छेद, 22 भाग और 12 अनुसूचियां है।

प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन राजपथ पर परेड की जाती है। सुबह 8 बजे के करीब राष्ट्रपति झण्डारोहण करते हैं और वायु सेना, थल सेना, जल सेना को सलामी देती है। उसके बाद तीनों सेना अपनी-अपनी शक्तियों का प्रदर्शन करते हैं, और आकाश में करतब दिखाते है। भारत के सभी राज्यों के लोग अपने रीति रिवाज को झांकियों के माध्यम से निकालते है। हमें गर्व होना चाहिए की हम भारत देश के नागरिक है और हम सभी को ऐसे संविधान का स्वभाग्य मिला है जो बेहद ही अलग और सबके अधिकारों का सम्मान रखता है। भारत में लोकतंत्र की स्थापना हुई और हमारा ये मौलिक कर्तव्य है कि हम अपने देश के तंत्र और संविधान की महत्वता को समझें और उसकी रक्षा और सम्मान करें। इसी के साथ में आप सभी से अलविदा लेना चाहता हूँ आप सभी का धन्यवाद।

जय हिन्द, जय भारत! भारत माता की जय

Republic Day Speech in English 2022 for Students

Principal Speech on Republic Day in English

Principal Speech on Republic Day in English for Kids


26 January Speech in Hindi for Teachers 2022

गणतंत्र दिवस 2022 भाषण:

नमस्कार मेरे प्रिय सभी अध्यापकगण, सभी आमंत्रित आगंतुकों और मेरे प्रिय मित्रगण को भारत के गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं। आज अवसर मिला है कुछ कहने का अपने देश की शान में। मैं उम्मीद करता हूँ/करती हूँ कि आपको मेरी बातें अच्छी लगे।

भारत में गणतंत्र को आए 73 साल हो गए है। भारत में गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 1950 में लागू किया गया था जिसको आज तक निभाया जा रहा है। भारत एक ऐसा देश है जहां अनेकों त्यौहार और अनेकों जन जाती के लोग है फिर भी सभी एक दूसरे से जी जान से प्यार करते है। भारत की आजादी के लिए न जाने कितनी आहुतियां दी गयी थी और आज भी हमारे वीर जवान सरहद पर लगे हुए है और शहीद हो रहे है। हमें उन सभी की आहुतियों की कदर करनी चाहिए।

हमें यह अच्छी तरह समझना चाहिए की आज जो हम आजादी की खुली साँसे ले रहे है वो केवल हमारे महान सैनिकों और क्रांतिकारी नेताओं के चलते ही ले रहे है। हमें अपने देश में प्यार और एकता बढ़ानी चाहिए और दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाब देना चाहिये। हम भारतीय है और एक भारतीय किसी भी अन्य देश में चला जाता है तो उसकी पहचान सबसे अलग मानी जाती है। भारत में हिन्दू, मुस्लिम, सीख, ईसाई सब भाई भाई है। यहां बस जाती सबकी अलग अलग है लेकिन दिलों में सबके लिए प्रेम एक समान है।

धन्यवाद

“जय हिन्द जय भारत”

अन्य भाषण⇓


गणतंत्र दिवस पर अध्यापक के लिए भाषण: 26 January 2022 Speech in Hindi | Republic Day 2022 Speech in Hindi

भारत माता की जय वन्दे मातरम्

भारत 2022 में अपना 73वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है और आप सभी को 73वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई। आप सभी अतिथियों और हमारे विद्यालय के प्रधानाध्यापक, मेरे साथी अध्यापकगणों और मेरे प्यारे बच्चों को गणतंत्र दिवस की शुभकामना एवं बधाई। मैं आप सभी का अभिनंदन करता / करती हूँ जो आप आज देश के इस अवसर पर यहां पधारे और इस पर्व की शोभा बढ़ाई। हम सब आज यहां अपना 73वाँ गणतंत्र दिवस मना रहे हैं।

आज के शुभ समारोह की शुरुआत करने से पहले स्वतंत्रता के उन सभी क्रांतिकारियों और महान नेताओं को श्रद्धांजलि देता/देती हूँ, जिन्हें अपना संपूर्ण जीवन भारत की शान में मिटा दिया है। मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि आज के इस राष्ट्र दिवस पर देश की शान में कुछ शब्द व्यक्त करने का अवसर मिला है। जिसके लिए मैं आप सभी का आभार व्यक्त करता/करती हूँ।

15 अगस्त 1947 को भारत देश आजाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 में देश का संविधान स्थापित किया गया था और भारत एक प्रभुता-सम्पन्न लोकतांत्रिक गणराज देश बन चुका था। हमारा संविधान विश्व का सबसे बड़ा और लिखित संविधान है। हमारा संविधान कई देशों के संविधानों का सार है, अर्थात विभिन्न देशों के संविधानों का अध्ययन करने के बाद काफी मेहनत के पश्चात् संविधान का वर्तमान स्वरूप परिलक्षित हुआ है। संविधान सभा का गठन और प्रथम बैठक दिसंबर 1946 को हुआ। भारतीय संविधान सभा में 299 लोग थे जिसकी अध्यक्षता डा. राजेन्द्र प्रसाद ने की।

संविधान सभा ने 26 नवम्बर 1949 को संविधान पूरा कर लिया था और 26 जनवरी 1950 को पूरे देश में लागू कर दिया गया। भारतीय संविधान को पूरा होने में 2 वर्ष, 11 माह, 18 दिन का समय लगा। मूल संविधान में 395 अनुच्छेद, 22 भाग और 8 अनुसूचियां थीवर्तमान में 395 अनुच्छेद, 22 भाग और 12 अनुसूचियां हो गयी हैं। हमारी सरकार संसदीय कार्य-व्यवस्था पर चलती है। जोकि एक संघीय प्रणाली है। संवैधानिक प्रमुख राष्ट्रपति होता है, लेकिन असली शक्ति प्रधानमंत्री में निहित होती है। राष्ट्रपति की सलाह के लिए एक मंत्री-परिषद होती है।

आज के इस शुभ दिन पर मैं एक ही चीज कहना चाहूँगा / चाहूँगी कि इन 73 सालों में हमारे देश ने अपार तरक्की कर ली है। एशिया के सबसे ज्यादा विकसित देशों में हम शुमार हैं। हमारे देश ने हर क्षेत्र में बेहद प्रगति की है। इस वर्ष मंगल पर अपना यान भेजकर हमने यह सिद्ध किया है कि हम किसी भी क्षेत्र में किसी से कम नहीं। इस बात को NASA और बाकी दुनिया ने भी माना है। प्रत्येक वर्ष की तरह इस साल भी हम अपना गणतंत्र दिवस मना रहे है, लेकिन जिस स्वतंत्रता को पाने के लिए हमारे आजादी के महानायकों ने अपनी जान की बाजी लगा दी थी, और हंसते-हंसते देश की शान में अपना जीवन त्यागा था। हमें गर्व होना चाहिए की हम ऐसे देश में पैदा हुए है जहां के लोगों ने अपने व्यक्तिगत जीवन की न सोचते हुए अपने देश का सोचा और हम भारतवाशी इतने खुदगर्ज है कि अपने देश की आजादी की कीमत भूल गए है। हम देश की आजादी के लिए ऐसे वीर जवानों की कुर्बानी को भूल गये हैं।

जब भी 26 जनवरी या 15 अगस्त आता है, हमें हमारी आजादी, देश के प्रति दी गयी आहुतियां याद आ जाती है। बाकी दिन सब लोग सब कुछ भूल कर बैठे होते है। माना भारत अपने हर भारतवाशी के दिल में बैठा हुआ है। इंसान भुलक्कड़ होता है जिसे समय और अपनों की कद्र नहीं होती। शायद इसीलिए प्रत्येक व्यक्ति के लिए देशभक्ति की भावना मौकापरस्त है।

मैने, अक्सर देखा है कि सभी भारतवाशी अपने देश की आजादी और गणतंत्र दिवस पर तो बड़ी खुशी, जोश और सम्मान के साथ गणतंत्र दिवस मनाते हैं, झंडा फहराते हैं, राष्ट्रीय प्रतीकों के सम्मान पर लंबा-चौड़ा भाषण देते है, गीत संगीत, आदि करते है। अपनी बातों में सबको सीख देते है कि हमें अपने भारत देश के लिए ये करना चाहिए, वो करना चाहिए, लेकिन अगले ही दिन हमारा राष्ट्रीय ध्वज, या फिर राष्ट्रीय ध्वज का प्रतीक जोकि हमारे देश के गौरव, मान सम्मान और प्रतिष्ठा का प्रतीक है, देश की गलियों और सड़कों पर गिरा पड़ा मिलता है, छतों पर लगा हुआ होता है जिसे एक बार लगाने के बाद कोई दोबारा देखने भी नहीं जाता। जब कि नियम के अनुसार राष्ट्रीय ध्वज को शाम होते ही नीचे उतारना चाहिए। ऐसे में हमारी देशभक्ति कहाँ चली जाती है?

महात्मा गांधी, सुभाष चन्द्र बोस, शहीद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद आदि हमारे अमर शहीदों ने, क्या इस दिन के लिए हमारी धरती माँ को गुलामी की बेड़ियों से आजाद कराया था, देश की आजादी को लेकर उन्होंने जो सपना देखा था, उसे हमें ही पूरा करना है। हम सभी को उनका तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहिए। हम सभी बड़े ही भाग्यशाली है जो आजाद हिन्द देश में पैदा हुए हैं। हमने गुलामी का समय नहीं झेला, इसलिए उस कठोर दर्द से ना वाकिफ है। जब “कर” की मार के तले एक किसान अपना जीवन त्याग देता था, एक बेटी डर के मारे घर से नहीं निकलती थी, एक घर में दीपक तो दूर चूल्हा जलाने के पैसे तक नहीं थे, छुआछूत की वजह से लोगों को उनकी जाती और धर्म पर बांटा गया, हिन्दू मुस्लिम भाई जो एक दूसरे के लिए मर मिटते थे उन्हें आपस में लड़वाया गया और एक हिंदुस्तान और एक पाकिस्तान बनाया गया।

मैं आप सभी से कहना चाहूँगा / चाहूंगी आज हम आजादी की साँसे केवल अपने महान क्रांतिकारियों की वजह से ही ले रहे है। लेकिन आज की युवा पीढ़ी अपने आप में ही गुम है। YouTube, Facebook, Instagram आदि जैसी साइट्स पर व्यस्त है। आपने कभी सोचा है एक सैनिक किस तरह अपने देश की रक्षा करते है? उनका जीवन पहले ही तह हो चुका होता है कि इस जीवन को भारत माता के नाम करना है। क्या एक सैनिक का मन नहीं करता की वो भी आपकी तरह अपने घरों में चैन और सुख की साँस लें? आपको पता भी है कि सियाचिन में ठंड में (-डिग्री) रहता है और देश के नौजवान कडाके की ठंड में खड़े रहते है।

मैं अपने देश के भविष्य से अपने देश के नौजवानों से आग्रह करूंगा/करूंगी कि वो अपने अंदर की शक्ति और क्षमता को पहचानें। अपने देश की शान में कुछ ऐसा जरूर करें की ये देश उन्हें हमेशा याद करे। वो चाहे तो, कुछ भी कर सकते है। उसके लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं। देश का भविष्य देश के हर नागरिक पर ही टिका है।

धन्यवाद

Republic Day Speech in Telugu 2022 PDF Download

Republic Day Speech in Telugu 2020 PDF Download

26 January Speech in Telugu 2019 for Students

Speech For Republic Day in Hindi 2022

– 26 January 2022 Republic Day Speech in Hindi

“भारत माता की जय”

नमस्कार मेरे प्रिय सभी अध्यापकगण, सभी आमंत्रित आगंतुकों और मेरे प्रिय मित्रगण को भारत के गणतंत्र दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं।

आज अवसर मिला है कुछ कहने का अपने देश की शान में। मैं उम्मीद करता हूँ/ करती हूँ आपको मेरी बातें अच्छी लगे।

73साल हो गए है भारत में गणतन्त्र आए हुए और 26 जनवरी 1950 में लागू किया गया था जिसको आज तक निभाया जा रहा है।

भारत की आजादी के लिए न जाने कितनी आहुतियां दी गयी थी और आज भी हमारे वीर जवान सरहद पर लगे हुए है और शहीद हो रहे है। हमें उन सभी की आहुतियों की कदर करनी चाहिए।

हमें ये अच्छी तरह समझना चाहिए की आज जो हम आजादी की खुली साँसे ले रहे हैं वो केवल हमारे महान सैनिकों और क्रांतिकारी नेताओं के चलते ही ले रहे है। हमे अपने देश में प्यार और एकता बढ़ानी चाहिए और दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाब देना चाहिये।

हम भारतीय हैं और एक भारतीय किसी भी अन्य देश में चला जाता है तो उसकी पहचान सबसे अलग मानी जाती है।

भारत में हिन्दू, मुस्लिम, सीख, ईसाई सब भाई भाई है और सबके दिलों में सबके लिए प्रेम एक समान है। हम सभी को ये कसम खानी चाहिए की आज से अपने देश को और भी ज्यादा शक्तिशाली बनाने में योगदान देना है।

अपने देश की स्वच्छता पर भी बहुत ध्यान देना चाहिए।

“जय हिन्द, जय भारत”


26 January Speech in English 2022 for Child

Republic Day Speech in English for Teachers

Republic Day Speech in English for Teachers

Republic Day Speech 2022 in Hindi For Students

– 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022 (300 शब्द)

“भारत माता की जय” – “वीर जवानों की जय”

नमस्कार मेरे प्रिय सभी अध्यापकगण, सभी आमंत्रित आगंतुकों और मेरे प्रिय मित्रों को भारत के गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

आज अवसर मिला है कुछ कहने का अपने देश की शान में। मैं उम्मीद करता हूँ/ करती हूँ आपको मेरी बातें अच्छी लगेगी।

भारत में संविधान लागू हुए आज 73 साल हो गए है और भारत में गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 1950 में लागू किया गया था।

भारत की आजादी में देश के सैनिकों का सबसे बड़ा योगदान होता है। आज भी हमारे वीर जवान सरहद पर लगे हुए है और शहीद हो रहे है। हमें उन सभी की आहुतियों की कदर करनी चाहिए।

हमें ये अच्छी तरह समझना चाहिए की आज जो हम आजादी की खुली साँसे ले रहे है वो केवल हमारे महान सैनिकों और क्रांतिकारी नेताओं के चलते ही ले रहे है। हमे अपने देश में प्यार और एकता बढ़ानी चाहिए और दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाब देना चाहिये।

हम भारतीय हैं और एक भारतीय किसी भी अन्य देश में चला जाता है तो उसकी पहचान सबसे अलग मानी जाती है। भारत में हिन्दू मुस्लिम सीख ईसाई सब भाई भाई है। दिलों में सबके लिए प्रेम एक समान है।

यहाँ के रमजान में राम और दीपावली में अली का वास है।

भारत के नौजवान ही भारत का भविष्य लिखते है और देखा जाए तो हमारे सभी के प्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के चलते ऐसे ऐसे कदम उठाए गए है कि दुश्मन देश यहाँ बुरी नजर से देखने के लिए भी कई बार सोचेगा।

बस अंत में इतना ही कहना चाहूँगा की भारत माता हम सभी की माता है और हमें सभी को इनकी रक्षा करनी है। अब वो चाहे किसी भी क्षेत्र में रह कर भी किया जा सकता है, जरूरी नहीं की आप केवल सैनिक बन कर ही रक्षा कर सकते है।

अंत में सभी को अलविदा करते हुए “भारत माता की जय” “वीर जवानों की जय” “जय हिन्द जय भारत”


26 जनवरी पर भाषण ,स्टूडेंट या छात्रों के लिए 26 JANUARY REPUBLIC DAY SPEECH FOR CHILDREN’S / STUDENTS

– Republic Day Speech for 26 January 2022 in Hindi

वन्दे मातरम्, भारत माता की जय, भारत के गणतंत्र दिवस का आप सभी को नमस्कार॥ भारत के 73वें गणतंत्र दिवस की सुबह पर सभी आदरणीय प्रधानाचार्य, आदरणीय अध्यापकगण, प्रिय मित्रगण, और सभी आदरणीय आगंतुकों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं|

भारतीय गणतंत्र दिवस 2022 में हम सभी भारत का 72वां गणतंत्र दिवस मना रहे है और इस शुभ अवसर पर प्रत्येक वर्ष की तरह निरंतर ध्वजारोहण किया जाता है।

मैं बहुत ही भाग्यशाली हूँ कि आज मुझे आप सभी के सामने गणतंत्र दिवस पर कुछ शब्द व्यक्त करने का उत्तम अवसर मिला है। भारत गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 1950 से मनाता आ रहा है भारत के कई राज्य और राजधानियाँ है जहां प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस की खुशी में ध्वज फहराया जाता है।

भारत में 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू हुआ था। संविधान में मानवाधिकार और लोकतंत्र के सभी नियमों को विख्यात किया गया है। लोकतंत्र का अर्थ है कि सभी लोक जन को अपनी पसंद का नेता चुनने का पूरा अधिकार है।

गणतंत्र दिवस पर सभी जाती धर्म के लोग एकजुट होकर एक दूसरे को बधाइयाँ देते है। भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद थे और उनका कहना “हम सभी ने एक ही संविधान में और संघ में हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकार को पाया है जो की देश में रह रही जनता का कल्याण की जिम्मेदारी लेता है।

भारत के संविधान लागू होने का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य मानवाधिकार का हनन होने से बचाना था। ब्रिटिश राज में भारत ने अपना मानवाधिकार, स्वाभिमान, स्वतंत्र होकर जीना भूल गए थे।

भारत की आजादी के बाद गणतंत्र दिवस का आवाहन किया गया और भारत एक महान देश के साथ संविधान पूर्ण देश भी बन गया है।

हमने अपने देश की आजादी के लिए जिस तरह आंदोलन किया था ठीक उसी तरह अपने देश को स्वच्छ, शिक्षापूर्ण समानता, और अपने देश को प्रत्येक अच्छे क्षेत्र में सर्वोत्तम रखना है।

अपने देश में से बेरोजगारी, अशिक्षा, असमानता, भ्रष्टाचार, गरीबी खत्म करनी है जिसके लिए हमारे देश को भगत सिंह जी, महात्मा गांधी जी, लाला बहादुर शास्त्री, सरदार वल्लभ भाई पटेल, सुभाष चंद्र बोस जैसे सभी क्रांतिकारियों के जैसे सोच रखनी होगी तभी बनेगा हमारा देश महान।

“भारत की आन और शान में सब कुछ भुला देंगे, भारतीय है प्यार तो देते ही है सबको, लेकिन अगर कोई देखे बुरी नजर से….. हमारी भारत माता की और तो भारत माता की कसम……. एक लाल रंग की गंगा बना देंगे।”

“जय हिन्द जय भारत”

– लेखक “शानू गुप्ता”

Republic Day Shayari, Quotes, Poem, Kavita, Geet in Hindi and English

देश भक्ति शायरी

“ अब भी जिसका खून न खौला, खून नहीं वो पानी है…..
जो देश के काम न आये, वो बेकार जवानी है।

Republic Day Shayari For WhatsApp

“ कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है
हम लहराएगे हर जगह ये तिरंगा
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है! “
जय हिन्द, जय भारत।

Republic Day WhatsApp Status in Hindi Font

आओ झुक कर सलाम करे उनको,
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है…..!!

Poem on 26 January in Hindi

चलो फिर से आज वो नजारा याद करले,
चलो फिर से आज वो नजारा याद करले,
शहीदों के दिलो में थी जो वो ज्वाला याद करले,
जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे,
जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे,
देशभक्ति के खून की वो धारा याद करले ||

Republic Day Quotes Messages and Wishes
As We Match Out
In The Spirit Of Brotherhood And Nationhood,
Let Us Not Forget To Defend
The Colors Of Our Flag With All We Have.
Happy Republic Day!

Happy Republic Day Shayari in English

Let Every Teacher Teach
The Student How To Love This Nation,
Let Every Parent Instill
In His Or Her Sons And Daughters
The Beauty Of Our Nation.
Happy Republic Day!

Happy Republic Day Wishes in English

We Might Not Be The Richest Nation In The World,
We Might Be Deprived Of The Finances
And The Luxuries Of This World,
But My Brothers And Sister
Let Us Maintain Our Peaceful Coexistence
And Above All Love For Our Nation.
Happy Republic Day!

Desh Bhakti Geet in Hindi Lyrics

सिकंदर-ए-आज़म / जहाँ डाल डाल पर

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु
गुरुदेव महेश्वरा
गुरु साक्षात परब्रह्म
तत्समये श्री गुरुवे नम:

जहाँ डाल डाल पर सोने की चिड़ियाँ करती है बसेरा
वो भारत देश है मेरा।

जहाँ सत्य अहिंसा और धर्म का पग-पग लगता डेरा
वो भारत देश है मेरा।

ये धरती वो जहाँ ॠषि मुनि जपते प्रभु नाम की माला
जहाँ हर बालक एक मोहन है और राधा हर एक बाला
जहाँ सूरज सबसे पहले आ कर डाले अपना फेरा
वो भारत देश है मेरा।

अलबेलों की इस धरती के त्योहार भी हैं अलबेले
कहीं दीवाली की जगमग है कहीं हैं होली के मेले
जहाँ राग रंग और हँसी खुशी का चारों ओर है घेरा
वो भारत देश है मेरा।

जहाँ आसमान से बातें करते मंदिर और शिवाले
जहाँ किसी नगर में किसी द्वार पर कोई न ताला डाले
प्रेम की बंसी जहाँ बजाता है ये शाम सवेरा
वो भारत देश है मेरा।

मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको 26 जनवरी पर भाषण बहुत ही अच्छा लगा होगा और आपको यदि सच में गणतंत्र दिवस पर भाषण अच्छा लगा हो तो India Republic Day Speech 2022 के लेख को साझा करना न भूलें और आगे बड़े, अपनी जिंदगी में उन्नति करें।

Tags: Hindi Speech on Republic Day, Republic Day Speech in Hindi for School Students, 26 January Hindi Speech, 26 January Speech in Hindi For Teacher, Speech on Republic Day in Hindi Paper

About the author

Hindi Parichay Team

HindiParichay.com पर आपको प्रसिद्ध लोगों की जीवनी (जीवन परिचय), उनके द्वारा अथवा उनके ऊपर लिखी गई कविता एवं अनमोल विचार अथवा भारतीय त्योहारों और अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां पढ़ने को मिलेगी। कोई भी प्रश्न एवं सुझाव के लिए आप हमसे संपर्क करें

2 Comments

Leave a Comment

close