गणतंत्र दिवस

Republic Day Essay in Hindi – गणतंत्र दिवस 26 जनवरी पर निबंध – 600 से 1000 शब्दों तक

26 January Republic Day Essay in Hindi

शीर्षक : Republic Day Essay in Hindi For School Students.

26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है.

नमस्कार मित्रों आज आप सभी बच्चों के लिए गणतंत्र दिवस पर निबंध लेकर आया हूँ| आप सभी को यह निबंध बहुत ही अच्छा लगेगा|

अपने देश के लिए कुछ शब्द कहने का अवसर बड़े ही किस्मत वालों को मिलता है इसीलिए मैं आप सभी के लिए गणतंत्र दिवस पर भाषण और निबंध लेकर आया हूँ| आज के समय में लोगों के पास समय नहीं है जिसकी वजह से मुझे आपके लिए गणतंत्र दिवस पर सबसे अच्छा निबंध लिखना पड़ा है.

बच्चे बड़े सभी सुबह के समय सभी लोग गणतंत्र दिवस के अवसर पर होने वाले महोत्सव के लिए तैयार हो जाते हैं और अपना टीवी खोल कर बैठ जाते हैं.

प्रत्येक भारतीय द्वारा इस त्यौहार को मनाया जाता है| ऐसे तो भारत देश में अनेकों त्यौहार मनाए जाते हैं| हिन्दू मुस्लिम सीख ईसाई सभी धर्म के लोगों के अलग अलग धर्म है जिसकी वजह से उनके त्यौहार भी बहुत से हैं.

लेकिन जो त्यौहार राष्ट्रीय है उसे प्रत्येक भारतीय मनाता है| ये भारतीय त्यौहार सरकारी अवकाश के साथ बड़ी ही धूम धाम हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.

बड़ों की जरूरत के हिसाब से हमने आपके लिए 600, 800, 1000, 1200 शब्दों में आपके लिए निबंध लिखा है आपको जो सही लगे इस्तेमाल कर लीजिए.

इन सभी निबंध का प्रयोग करने से पहले आप कृपया करके पढ़िएगा जरूर| आप अगर अपने विचार व्यक्त करना चाहते हैं तो देरी मत कीजिएगा कमेंट के जरिये जरूर बताइएगा.

Republic Day Essay in Hindi 600 Words

प्रस्तावना

भारत में राष्ट्रीय त्यौहारों में गणतंत्र दिवस का नाम सबसे पहले आता है| गणतंत्र दिवस को देश भर में बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता है|

26 जनवरी 1950 के दिन भारतीय संविधान लागू हुआ था जिसके उपलक्ष्य में प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस को मनाया जाता है|

भारतीय गणतंत्र दिवस हमें अपने देश में स्थापित गणतंत्र और संविधान का महत्व समझाता है| हमारे देश की स्वतंत्रता में हुए संघर्ष के साथ ही हमारे देश के संविधान का भी एक बहुत बड़ा योगदान है और 26 जनवरी का दिन हमें हमारे देश के गणतंत्र के महत्व और इसके इतिहास से परिचित कराता है.

भारतीय गणतंत्र दिवस का इतिहास और भारतीय गणतंत्र दिवस की कहानी

किसी भी बड़े बदलाव के पीछे एक बहुत बड़ा संघर्ष छुपा हुआ होता है| फिर चाहे वो कैसा भी संघर्ष क्यों न हो| इसी तरह भारत के गणतंत्र को लागू होने से पहले आजादी के लिए बहुत ही संघर्ष करने पड़े थे.

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की 26 जनवरी का महत्व हमारे जीवन में कितना है.

कठोर संघर्ष हुआ था| 26 जनवरी 1950 को भारत का गणतंत्र लागू हुआ था। जब हमारे देश में ‘भारत सरकार अधिनियम’ को हटा दिया गया था और भारत के संविधान को लागू किया गया था|

इतने बड़े बदलाव के बाद से ही हमारे देश के संविधान और गणतंत्र को सम्मान प्रदान करने के लिए प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस का त्यौहार मनाया जाता है.

26 जनवरी 1930 का दिन वह ऐतहासिक दिन था, जब कांग्रेस ने पहली बार पूर्ण स्वराज की मांग रखी थी| पूर्णस्वराज की मांग की शुरुआत, जब सन् 1929 में लाहौर में पंडित जवाहर लाल नेहरु के अध्यक्षता में हुए काग्रेंस अधिवेशन के दौरान यह प्रस्ताव पारित किया गया|

इसके तहत यदि 26 जनवरी 1930 तक अंग्रेजी सरकार भारत को ‘डोमीनियन स्टेटस’ नही प्रदान करती तो भारत अपने आप को पूर्णतः स्वतंत्र घोषित कर देगा|

इसके बाद जब 26 जनवरी 1930 तक अंग्रेजी हुकूमत ने कांग्रेस की चेतावनी का कोई जवाब नही दिया। तो उस दिन से कांग्रेस ने पूर्ण स्वतंत्रता के निश्चय के लिए अपना संक्रिय आंदोलन की शुरुआत की और जब 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ,और भारत सरकार ने 26 जनवरी के ऐतिहासिक महत्ता को ध्यान में रखते हुए| इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में स्थापित किया.

गणतंत्र दिवस का महत्व और इसकी महत्वता

भारत की आजादी जितनी जरूरी है भारत के लिए ठीक उतना ही संविधान के लागू होने का भी बहुत बड़ा महत्व है| गणतंत्र दिवस को 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है| हमारा यह गणतंत्र दिवस का पर्व हमारे अंदर आत्मगौरव भरने का कार्य करता है तथा हमें पूर्ण स्वतंत्रता की अनुभूति कराता है.

26 जनवरी को मनाने के लिए पूरा भारत बड़ी ही बेसवरी के साथ इंतजार करता है| गणतंत्र दिवस भारत में पूरे देश भर में इतने धूम-धाम तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है| गणतंत्र दिवस का यह पर्व हम सबके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है.

गणतंत्र दिवस का दिन वह दिन है जो हमें हमारे संविधान का महत्व समझाता है| वैसे तो भारत देश 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हो गया था| परन्तु इसे पूर्ण रुप से स्वतंत्रता की प्राप्ति 26 जनवरी 1950 को मिली जब हमारे देश का संविधान प्रभावी हुआ और हमारा भारत देश विश्व पटल पर एक गणतांत्रिक देश के रुप में स्थापित हुआ.

आज के समय में कोई भी कानूनी फैसला लेने के लिए कानून है| गलत कार्यों को रोकने के लिए संविधान लागू हो चुका है| हम स्वतंत्र रुप से अपने जीवन का कोई भी फैसला ले सकते हैं या फिर किसी प्रकार के दमन तथा दुर्वव्यस्था के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं, तो ऐसा सिर्फ हमारे देश के संविधान और गणतांत्रिक स्वरुप के कारण संभव है|

यहीं कारण है कि हमारे देश में गणतंत्र दिवस को एक राष्ट्रीय पर्व के रुप में मनाया जाता है|

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है|

निष्कर्ष

गणतंत्र दिवस एक भारतीय के लिए बहुत ही महत्व रखता है| भारत की आजादी के साथ साथ संविधान का होना बहुत ही जरूरी था| स्वतंत्रता सेनानियों का त्याग, उनके कठोर संघर्ष को हमें कभी नहीं भूलना है|

हमारी आजादी के लिए उन्होने बहुत सी परेशानियों को सहा है| हमारे देश का संविधान तथा इसका गणतांत्रिक स्वरुप ही हमारे देश को कश्मीर से कन्याकुमारी तक जोड़ने का कार्य करता है.

यह वह दिन है जब हमारा देश विश्व मानचित्र पे एक गणतांत्रिक देश के रुप में स्थापित हुआ। इन्ही कारणो की वजह से प्रत्येक भारतीय गणतंत्र दिवस का त्यौहार मनाने से पीछे नहीं हटता है.

इन्हें भी पढ़े ⇓

26 January Republic Day Essay in Hindi For Class 8th To 12th 800 Words

प्रस्तावना

भारतीय गणतंत्र दिवस प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है| 26 जनवरी सन् 1950 में हमारे देश का संविधान लागू हो गया था। 26 जनवरी के दिन मनाये जाने वाले गणतंत्र दिवस के पर्व पर पूरे देश में परेड तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है|

यह अति आवश्यक है कि इस विशेष दिन को हम उचित सम्मान दे और इसे बिना किसी भेद भाव के साथ मिलकर मनाये, ताकि हमारे देश की यह एकता और अखंडता इसी प्रकार से बनी रहे.

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है ?

किसी भी बड़े बदलाव के पीछे बहुत बड़ा संघर्ष छिपा होता है ठीक उसी तरह से भारत की आजादी के बाद जब भारत गणतंत्र देश में विपरीत हुआ था ये बहुत बड़ा बदलाव था| गणतंत्र दिवस पर संविधान को स्थापित किया गया.

गणतंत्र दिवस की शुरुआत दिसंबर 1929 में लाहौर में पंडित नेहरु के अध्यक्षता में संपन्न हुई भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन से हुई थी|

इस अधिवेशन में कांग्रेस द्वारा इस बात का ऐलान हुआ की यदि 26 जनवरी 1930 तक भारत को पूर्ण स्वराज (डोमीनियन स्टेटस) नही प्रदान किया गया तो इसके बाद भारत अपने आप को पूर्णतः स्वतंत्र घोषित कर देगा, लेकिन जब यह दिन आया और अंग्रेजी सरकार द्वारा इस मुद्दे पर कोई जवाब नही दिया गया तो कांग्रेस ने उस दिन से पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्ति के लक्ष्य से अपना सक्रिय आंदोलन आरंभ कर दिया.

यहीं कारण है कि जब हमारा भारत देश आजाद हुआ तो 26 जनवरी को ही संविधान स्थापना के लिए चुना गया.

भारत का राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस !

भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हो गया था| लेकिन केवल आजादी से ही कुछ नहीं होता है क्योंकि यह पूर्ण रुप से स्वतंत्र तब हुआ जब 26 जनवरी 1950 के दिन ‘भारत सरकार अधिनियम’ को लागू किया गया.

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है|

भारत के नवनिर्मित संविधान को स्थापित किया गया| इसीलिए उसी दिन से 26 जनवरी के दिन को भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाने लगा|

यह भारत के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है इसके अलावा अन्य दो गांधी जयंती और स्वतंत्रता दिवस है|

26 जनवरी को पूरे देश भर में राष्ट्रीय अवकाश रहता है, इसी कारण है कि विद्यालय कॉलेज तथा कार्यलय जैसी कई जगहों पर इसके कार्यक्रम को एक दिन पहले ही मनाया जाता है|

26 जनवरी को विद्यालयों में मिठाइयों का वितरण किये जाने के साथ ही कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते हैं|

गणतंत्र दिवस का सबसे भव्य आयोजन नई दिल्ली के राजपथ में होता है, जहां कई तरह की झांकिया और परेड निकाली जाती हैं| गणतंत्र दिवस का यह दिन एक ऐसा दिन होता है, जो हमें हमारे देश के संविधान का महत्व समझाता है, यहीं कारण है कि इस दिन को पूरे देश भर में इसे धूम-धाम से मनाया जाता है.

इस दिन चप्पे चप्पे पर पुलिस सैनिक लगे हुए होते है उन्हे जिसपर शक होता है वो उसे रोक कर जांच पड़ताल करते है| चप्पे चप्पे पर जांच पड़ताल होती रहती है.

गणतंत्र दिवस समारोह

प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को नई दिल्ली के राजपथ में गणतंत्र दिवस के इस कार्यक्रम को काफी भव्य रूप से मनाया जाता है। इसके साथ ही गणतंत्र दिवस के दिन किसी विशेष विदेशी अतिथि को आमंत्रित करने की भी प्रथा रही है, कई बार इसके अंतर्गत एक से अधिक अतिथियों को भी आमंत्रित किया जाता है.

गणतंत्र दिवस के दिन सर्वप्रथम भारत के राष्ट्रपति द्वारा तिरंगा फहराया जाता है और इसके बाद वहां मौजूद सभी लोग सामूहिक रूप से खड़े होकर राष्ट्रगान गाते हैं.

तदुपरान्त सम्पूर्ण भारत की सांस्कृतिक और पारंपरिक झांकिया निकाली जाती हैं, जो कि देखने में काफी मनमोहक होती हैं| इसके साथ ही इस दिन का सबसे विशेष कार्यक्रम परेड का होता है, जिसे देखने के लिए लोगों में काफी उत्साह होता है.

इस परेड का आरंभ प्रधानमंत्री द्वारा राजपथ पर स्थित अमर जवान ज्योति पर पुष्प डालने के पश्चात होता है| इसमें भारतीय सेना के विभिन्न रेजीमेंट, वायुसेना तथा नौसेना द्वारा हिस्सा लिया जाता है.

गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम द्वारा भारत अपने सामरिक तथा कूटनीतिक शक्ति का भी प्रदर्शन करता है और विश्व को यह संदेश देता है कि हम अपने रक्षा में सक्षम है।

2019 के गणतंत्र दिवस समारोह में एक साथ कई सारे मुख्य अतिथियों को आमंत्रित किया गया था| इस कार्यक्रम सभी आसियान देशों के के प्रमुखों को आमंत्रित किया गया था|

गणतंत्र दिवस समारोह का यह कार्यक्रम भारत की विदेश नीति के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस कार्यक्रम में आमंत्रित किये गये विभिन्न देशों के मुख्य अतिथियों के आगमन से भारत को इन देशों से संबंधों को बढ़ाने का मौका मिलता है|

दूसरे देशों से मित्रता होने पर भारत को सबसे अच्छे हथियार मिलते है बाहर के देशों से मित्रता बढ़ाने से भारत देश और मजबूत होता है.

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है|

निष्कर्ष

गणतंत्र दिवस हमारे देश के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है। यहीं कारण है कि इसे पूरे देश भर में इतने जोश तथा उत्साह के साथ मनाया जाता है|

इस दिन भारत अपने सामरिक शक्ति का प्रदर्शन करता है,जिससे इस बात का पता चलता है की हम अपनी रक्षा करने में सक्षम है|

26 जनवरी का यह दिन हमारे देश के लिए एक ऐतिहासिक पर्व है इसलिए हमें पूरे जोश तथा सम्मान के साथ इस पर्व को मनाना चाहिए| गणतंत्र दिवस पर जो संविधान लागू किए गए थे उसका पालन करना चाहिए.

इन्हें भी जरुर पढ़े ⇓

Republic Day Essay in Hindi – Long Essay on Republic Day in Hindi For Teachers

प्रस्तावना

भारतीय गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है| 26 जनवरी सन् 1950 में हमारे देश का संविधान लागू हो गया था| भारतीय गणतंत्र दिवस भारत के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है, गणतंत्र दिवस को प्रत्येक जाति तथा संप्रदाय द्वारा काफी सम्मान और उत्साह के साथ मनाया जाता है.

26 जनवरी के दिन मनाये जाने वाले गणतंत्र दिवस के पर्व पर पूरे देश में परेड तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है| यह अति आवश्यक है की इस विशेष दिन को हम उचित सम्मान दे और इसे बिना किसी भेद भाव के साथ मिलकर मनाये, ताकि हमारे देश की यह एकता और अखंडता इसी प्रकार से बनी रहे.

गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं ?

किसी भी बड़े बदलाव के पीछे बहुत बड़ा संघर्ष छिपा होता है ठीक उसी तरह से भारत की आजादी के बाद जब भारत गणतंत्र देश में विपरीत हुआ था ये बहुत बड़ा बदलाव था|

गणतंत्र दिवस पर संविधान को स्थापित किया गया। 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस्स) के दिन का एक और इतिहास भी है, जोकि काफी मजेदार है|

गणतंत्र दिवस की शुरुआत दिसंबर 1929 में लाहौर में पंडित नेहरु के अध्यक्षता में संपन्न हुई भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन से हुई थी।

इस अधिवेशन में कांग्रेस द्वारा इस बात का ऐलान हुआ की यदि 26 जनवरी 1930 तक भारत को पूर्ण स्वराज (डोमीनियन स्टेटस) नही प्रदान किया गया तो इसके बाद भारत अपने आप को पूर्णतः स्वतंत्र घोषित कर देगा, लेकिन जब यह दिन आया और अंग्रेजी सरकार द्वारा इस मुद्दे पर कोई जवाब नही दिया गया तो कांग्रेस ने उस दिन से पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्ति के लक्ष्य से अपना सक्रिय आंदोलन आरंभ कर दिया।

यहीं कारण है कि जब हमारा भारत देश आजाद हुआ तो 26 जनवरी को ही संविधान स्थापना के लिए चुना गया.

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतन्त्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है.

भारत का राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस

भारत 15 अगस्त 1947 कोआजाद हो गया था| लेकिन केवल आजादी से ही कुछ नहीं होता है क्योंकि यह पूर्ण रुप से स्वतंत्र तब हुआ जब 26 जनवरी 1950 के दिन ‘भारत सरकार अधिनियम’ को हटाकर भारत के नवनिर्मित संविधान को स्थापित किया गया.

इसीलिए उसी दिन से 26 जनवरी के दिन को भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। यह भारत के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है इसके अलावा अन्य दो गांधी जयंती और स्वतंत्रता दिवस है.

26 जनवरी को पूरे देश भर में राष्ट्रीय अवकाश रहता है, इसी कारण है कि विद्यालय कॉलेज तथा कार्यलय जैसी कई जगहों पर इसके कार्यक्रम को एक दिन पहले ही मनाया जाता है.

26 जनवरी को विद्यालयों में मिठाइयों का वितरण किये जाने के साथ ही कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते हैं|

गणतंत्र दिवस का सबसे भव्य आयोजन नई दिल्ली के राजपथ में होता है, जहां कई तरह की झांकिया और परेड निकाले जाते हैं|

गणतंत्र दिवस का यह दिन एक ऐसा दिन होता है, जो हमें हमारे देश के संविधान का महत्व समझाता है, यहीं कारण है कि इस दिन को पूरे देश भर में इतने धूम-धाम से मनाया जाता है|

इस दिन चप्पे चप्पे पर पुलिस सैनिक लगे हुए होते है उन्हे जिस पर शक होता है वो उसे रोक कर जांच पड़ताल करते है| चप्पे चप्पे पर जांच पड़ताल होती रहती है.

गणतंत्र दिवस से जुड़े कुछ मुख्य वाक्य

भारतीय गणतंत्र दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण रोचक तथ्यों के विषय में चर्चा की गयी है।जो की निम्नलिखित है|

  1. भारत का गणतंत्र दिवस पहली बार 26 जनवरी 1930 में पूर्ण स्वराज के रूप में मनाया गया। जिसमें अंग्रेजी हुकूमत से पूर्ण आजादी के प्राप्ति का प्रण लिया गया था|
  2. भारत के पहले गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो थे।
  3. गणतंत्र दिवस समारोह का राजपथ में पहली बार आयोजन वर्ष 1955 में किया गया था।
  4. भारतीय गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान भारत के राष्ट्रपति को 31 तोपों की सलामी दी जाती है।
  5. गणतंत्र दिवस परेड के दौरान एक क्रिस्चियन ध्वनि बजाई जाती है, जिसका नाम “अबाईड वीथ मी” है क्योंकि यह ध्वनि महात्म गांधी के प्रिय ध्वनियों में से एक है।
  6. प्रत्येक वर्ष गणतन्त्र दिवस पर बाहर देश के प्रधानमंत्री को निमंत्रित किया जाता है|
  7. गणतन्त्र दिवस मनाने के दौरान जो भी झाँकियाँ निकली जाती है वो पूरे भारत के सभी राज्यों की कहानी दर्शाती है|

गणतंत्र दिवस समारोह

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है|

प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को नई दिल्ली के राजपथ में गणतंत्र दिवस के इस कार्यक्रम को काफी भव्य रूप से मनाया जाता है। इसके साथ ही गणतंत्र दिवस के दिन किसी विशेष विदेशी अतिथि को आमंत्रित करने की भी प्रथा रही है, कई बार इसके अंतर्गत एक से अधिक अतिथियों को भी आमंत्रित किया जाता है.

गणतंत्र दिवस के दिन सर्वप्रथम भारत के राष्ट्रपति द्वारा तिरंगा फहराया जाता है और इसके बाद वहां मौजूद सभी लोग सामूहिक रूप से खड़े होकर राष्ट्रगान गाते हैं.

तदुपरान्त सम्पूर्ण भारत की सांस्कृतिक और पारंपरिक झांकिया निकाली जाती हैं, जो कि देखने में काफी मनमोहक होती हैं। इसके साथ ही इस दिन का सबसे विशेष कार्यक्रम परेड का होता है, जिसे देखने के लिए लोगों में काफी उत्साह होता है|

इस परेड का आरंभ प्रधानमंत्री द्वारा राजपथ पर स्थित अमर जवान ज्योति पर पुष्प डालने के पश्चात होता है। इसमें भारतीय सेना के विभिन्न रेजीमेंट, वायुसेना तथा नौसेना द्वारा हिस्सा लिया जाता है.

गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम द्वारा भारत अपने सामरिक तथा कूटनीतिक शक्ति का भी प्रदर्शन करता है और विश्व को यह संदेश देता है कि हम अपने रक्षा में सक्षम है।

2019 के गणतंत्र दिवस समारोह में एक साथ कई सारे मुख्य अतिथियों को आमंत्रित किया गया था। इस कार्यक्रम सभी आसियान देशों के प्रमुखों को आमंत्रित किया गया था|

गणतंत्र दिवस समारोह का यह कार्यक्रम भारत की विदेश नीती के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस कार्यक्रम में आमंत्रित किये गये विभिन्न देशों के मुख्य अतिथियों के आगमन से भारत को इन देशों से संबंधों को बढ़ाने का मौका मिलता है.

दूसरे देशों से मित्रता होने पर भारत को सबसे अच्छे हथियार मिलते है बाहर के देशों से मित्रता बढ़ाने से भारत देश और मजबूत होता है|

निष्कर्ष

गणतंत्र दिवस हमारे देश के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है, यह वह दिन है जो हमें हमारा गणतंत्र के महत्व का अहसास कराता है। यहीं कारण है कि इसे पूरे देश भर में इतने जोश तथा उत्साह के साथ मनाया जाता है.

इस दिन भारत अपने सामरिक शक्ति का प्रदर्शन करता है, जोकि किसी को आतंकित करने के लिए नही अपितु इस बात का संदेश देने के लिए होता है कि हम अपनी रक्षा करने में सक्षम है.

26 जनवरी के यह दिन हमारे देश के लिए एक ऐतिहासिक पर्व है इसलिए हमें पूरे जोश तथा सम्मान के साथ इस पर्व को मनाना चाहिए|

गणतंत्र दिवस पर जो संविधान लागू किए गए थे उसका पालन करना चाहिए|

तो दोस्तों मैं उम्मीद करता हूँ की आपको Republic Day Essay in Hindi का लेख अच्छा लगा होगा|

बिना किसी देरी के इस लेख को आप अपने मित्रों आदि में शेयर जरूर करना| 26 जनवरी के लेख को फेसबुक, व्हाट्सएप्प आदि पर जरूर शेयर करें|

दोस्तों 26 जनवरी के इस महोत्सव को सभी के साथ मनाना चाहिए| अपने से छोटे बच्चों को बताना चाहिए की गणतंत्र दिवस का महत्व हमारे जीवन में कितना है| धन्यवाद” जय हिन्द जय भारत”

About the author

Hindi Parichay Team

हमारी इस वेबसाइट को पड़ने पर आप सभी का दिल से धन्यवाद, हमारी इस वेबसाइट में आपको दुनिया भर के प्रशिद्ध लोगों की जानकारी मिलेगी और यदि आपको किसी स्पेशल व्यक्ति की जानकारी चाहिए और किसी कारण वो हमारी वेबसाइट पे न मिले तो कमेंट बॉक्स में लिख दें हम जल्द से जल्द आपको जानकारी देंगे|

Leave a Comment