भगवान श्री हनुमान जी की आरती सभी भक्तों के लिए }} Hanuman Aarti {{

HindiParichay.com की और से, हनुमान जी के सभी भक्तों के लिए आज हम Hanuman Aarti in Hindi Language में लेकर आये है.

प्रिय भक्तजनों बजरंगबली हनुमान जी की आरती का यह लेख आपको हनुमान जी के लिए भक्ति भाव उत्पन्न कर देगा|

यकीन मानिये, जो हनुमान जी की आरती सच्चे मन और दिल से करता है उस पर हनुमान जी का आशीर्वाद हमेशा बना रहता है|

तो आईये भक्तों, बजरंगबली हनुमान जी और भगवान राम जी का नाम लेकर आरती को पढ़ना शुरू करते है|

Shri Hanuman Aarti Lyrics in Hindi


⇓ श्री हनुमान जी की आरती डाउनलोड ⇓

आरती कीजै हनुमानलला की, दुष्टदलन रघुनाथ कला की।
जाके बल से गिरिवर कांपे, रोग दोष जाके निकट न झांपै।
अंजनिपुत्र महा बलदायी, संतन के प्रभु सदा सहाई।
दे बीरा रघुनाथ पठाये, लंका जारि सिया सुधि लाये।
लंका-सो कोट समुद्र-सी खाई, जात पवनसुत बार न लाई।
लंका जारि असुर संहारे, सियारामजी के काज संवारे।
लक्ष्मण मूर्छित परे सकारे, आनि संजीवन प्रान उबारे।
पैठि पताल तोरि जम-कारे, अहिरावन की भुजा उखारे।
बाएं भुजा असुरदल मारे, दहिने भुजा सन्तजन तारे।
सुर नर मुनि आरती उतारे, जय जय जय हनुमान उचारे।
कंचन थार कपूर लौ छाई, आरति करत अंजना माई।
जो हनुमानजी की आरति गावै, बसि बैकुण्ठ परम पद पावै।


जय श्री राम दोस्तों, आशा करता हूँ की आपको हनुमान जी की आरती (Hanuman Aarti) करने में बेहद मदद मिली होगी|

प्यारे भक्तों, आप सभी से निवेदन है की भगवान हनुमान जी की आरती को जितना हो सके उतना बाकि सभी भक्तो के साथ फेसबुक, ट्विटर, गूगल+, व्हाट्सएप्प इत्यादि जगह शेयर करें और कमेंट बॉक्स में “जय हनुमान जी” जरुर लिखे|

इस लेख को पढ़ने और अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद..! HindiParichay.com पर दुबारा जरुर आईयेगा|

“पवन पुत्र बजरंगबली की जय” “संकट मोचन महाबली हनुमान की जय” “जय श्री राम”

जरुर पढ़े ⇓

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment