pub-g
आरती / चालीसा / भजन

श्री शनि देव जी की चालीसा हिंदी में

श्री शनि चालीसा डाउनलोड करे हिंदी में
Subscribe to our YouTube channel 🙏

{ Shri Shani Chalisa || श्री शनि चालीसा }

जय शनि देव महाराज… शनि देव जी की श्री शनि चालीसा हिंदी भाषा में आप सभी भक्तों के लिए लिखी गई है।

मैं आज आपको शनि देव की चालीसा, शनि देव की महानता आदि के बारे में बताऊँगा।

शनि देव की महानता का गुण गान करना अपने आप में ही एक सौभाग्य की बात है। हिंदू धर्म में शनि देव को दंडाधिकारी माना गया है। हिन्दू धर्म में शनि महाराज सबसे बड़े न्यायाधीश है।

सूर्यपुत्र शनिदेव के बारे में लोगों के बीच कई मिथ्या हैं। लेकिन मान्यता है कि भगवान शनिदेव जातकों के केवल उसके अच्छे और बुरे कर्मों का ही फल देते हैं।

शनि देव की पूजा अर्चना करने से जातक के जीवन की कठिनाइयां दूर होती है।

शिव पुराण में वर्णित है कि अयोध्या के राजा दशरथ ने शनिदेव को “श्री शनि चालीसा” से प्रसन्न किया था। शनि चालीसा निम्न है। शनि साढ़ेसाती और शनि महादशा के दौरान ज्योतिषी श्री शनि चालीसा का पाठ करने की सलाह देते हैं।

शनि देव की महिमा जिस पर भी हो जाती है वो गरीब से अमिर बन जाते हैं कमजोर से ताकतवर बन जाते हैं।

महाराज शनि देव की कहानी भी है हम उसको भी लिखेंगे लेकिन अभी शनि चालीसा का पाठ कीजिये और अपने सभी दुःख दर्द को भगवान शनि के आगे रख दीजिये।

शनि भगवान की चालीसा पढ़ने मात्र से ही लोगों के जीवन में बदलाव आने लगते हैं लोग अपने जीवन में खुशियाँ बटोरने लगते हैं उन्हें किसी चीज की कमी महसूस नहीं होती है।

श्री शनि चालीसा पड़ते समय केवल शनि भगवान की स्तुति करें जिससे आपको कई सारे लाभ होंगे। अब हम आपको शनि चालीसा बताएँगे जो इस प्रकार है:-

श्री शनि चालीसा डाउनलोड करें हिंदी में

Shri Shani Chalisa Lyrics Download in Hindi

भगवान सूर्य जी के पुत्र शनिदेव जी महाराज जिनकी पूजा अर्चना मात्र से ही लोगों के दुःख दूर हो जाते है। शनि चालीसा का पाठ करने से ही लोगों के सारे कष्ट का निवारण हो जाता है।

शनि देव कि महिमा के लिए साढ़े साती, शनि साढ़े साती, ढैया अथवा शनि महादशा के समय शनि चालीसा, दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ अवश्य करना चाहिए।

शिव पुराण के अनुसार अयोध्या के राजा दशरथ ने भी शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए “शनि चालीसा का पाठ” किया था। अत: कोई भी व्यक्ति जीवन में परेशानियों से गुजर रहे है तो शनि चालीसा का पाठ आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित होगा।

शनि चालीसा का पाठ कैसे करना चाहिए?

अधिकतर लोगों के मन में आता है कि शनिदेव की असीम कृपा पाने के लिए पाठ कैसे करे या फिर शनि चालीसा का उच्चारण किस तरह किया जाना चाहिए?

भक्तों चिंता कि कोई जरूरत नही है वैसे तो शनि महाराज अपने नाम के उच्चारण से ही बहुत खुश हो जाते है। यदि आप तब भी शनि महाराज जी कि चालीसा को सही से उच्चारित करना चाहते है तो बेफिक्र रहिये।

सुबह सुबह जब आप सोकर उठते है तब सबसे पहले आपको अपनी दिनचर्या में सबसे पहले शौचालय जाना है वहां से आने के बाद आपको ब्रश करना है, नहाना है और फिर सूर्य महाराज को जल चढ़ाना है।

जल चढ़ाने के बाद आपको शनि चालीसा पढ़ने के लिए जमीन पर एक आसन बिछाना है और शनि महाराज की फोटो रखनी है।

यदि आपके पास शनि महाराज की फोटो नही है तो भी चलेगा, आपको अपने सर पर एक कपड़ा रखना है और श्री शनि चालीसा पाठ शुरू करना है, कोशिश करना जब भी आप शनि चालीसा पढ़े तो आपके आस पास शनि का माहौल हो और आपका फ़ोन आपसे काफी दूर हो।

शनि चालीसा के पाठ मात्र से ही लोगों के दुःख दूर हो जाते है।

Shri Shani Chalisa in Hindi Lyrics

|| दोहा ||

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल,
दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल,
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज,
करहूँ कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज !!

#1.

!! जयति जयति शनिदेव दयाला करत सदा भक्तन प्रतिपाला,
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै माथे रतन मुकुट छवि छाजै,
परम विशाल मनोहर भाला टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला,
कुण्डल श्रवन चमाचम चमके हिये माल मुक्तन मणि दमकै !!

#2.

!! कर में गदा त्रिशूल कुठारा पल बिच करैं अरिहिं संहारा,
पिंगल, कृष्णो, छाया, नन्दन यम, कोणस्थ, रौद्र, दुःख भंजन,
सौरी, मन्द शनी दश नामा भानु पुत्र पूजहिं सब कामा,
जापर प्रभु प्रसन्न हवैं जाहीं रंकहुं राव करैं क्षण माहीं !!

#3.

!! पर्वतहू तृण होइ निहारत तृणहू को पर्वत करि डारत,
राज मिलत वन रामहिं दीन्हयो कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो,
वनहुं में मृग कपट दिखाई मातु जानकी गई चुराई,
लषणहिं शक्ति विकल करिडारा मचिगा दल में हाहाकारा !!

#4. 

!! रावण की गति-मति बौराई रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई,
दियो कीट करि कंचन लंका बजि बजरंग बीर की डंका,
नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा चित्र मयूर निगलि गै हारा,
हार नौलखा लाग्यो चोरी हाथ पैर डरवायो तोरी !!

#5.

!! भारी दशा निकृष्ट दिखायो तेलहिं घर कोल्हू चलवायो,
विनय राग दीपक महँ कीन्हों तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों,
हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी आपहुं भरे डोम घर पानी,
तैसे नल पर दशा सिरानी भूंजी-मीन कूद गई पानी !!

#6.

!! श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई पारवती को सती कराई,
तनिक विकलोकत ही करि रीसा नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा,
पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी बची द्रोपदी होति उघारी,
कौरव के भी गति मति मारयो युद्ध महाभारत करि डारयो !!

#7.

!! रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला लेकर कूदि परयो पाताला,
शेष देव-लखि विनती लाई रवि को मुख ते दियो छुड़ाई,
वाहन प्रभु के सात सुजाना हय जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना,
जम्बुक सिंह आदि नख धारी सो फल ज्योतिष कहत पुकारी !!

#8.

!! गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं हय ते सुख सम्पत्ति उपजावै,
गर्दभ हानि करै बहु काजा सिंह सिद्ध्कर राज समाजा,
जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै मृग दे कष्ट प्राण संहारै,
जब आवहिं स्वान सवारी चोरी आदि होय डर भारी !!

#9.

 !! तैसहि चारि चरण यह नामा स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा,
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं,
समता ताम्र रजत शुभकारी स्वर्ण सर्वसुख मंगल भारी,
जो यह शनि चरित्र नित गावै कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै !!

#10.

!! अद्भुत नाथ दिखावैं लीला करैं शत्रु के नशि बलि ढीला,
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई विधिवत शनि ग्रह शांति कराई,
पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत दीप दान दै बहु सुख पावत,
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा !!

॥ दोहा ॥

!! पाठ शनिश्चर देव को, की हों ‘भक्त’ तैयार,
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार !!

Shani Chalisa in English

||Doha||

Jai Ganesh Girija Suwan, Mangal Karan Krupaal.
Deenan Ke Dhuk Dhoor Kari, Kheejai Naath Nihaal
Jai Jai Sri Shanidev Prabhu, Sunahu Vinay Maharaaj
Karahu Krupa Hey Ravi Thanay, Rakhahu Jan Ki Laaj.

||Shani Chalisa||

Jayathi Jayathi Shani Dayaala,
Karath Sadha Bhakthan Prathipaala.
Chaari Bhuja, Thanu Shyam Viraajai,
Maathey Rathan Mukut Chavi Chaajai.

Param Vishaal Manohar Bhaala,
Tedi Dhrishti Bhrukuti Vikraala.
Kundal Shravan Chamaacham Chamke,
Hiye Maal Mukthan Mani Dhamkai.

Kar Me Gadha Thrishul Kutaara,
Pal Bich Karai Arihi Samhaara.
Pinghal, Krishno, Chaaya, Nandhan,
Yum, Konasth, Raudra, Dhuk Bhamjan.

Sauri, Mandh Shani, Dhasha Naama,
Bhanu Puthra Poojhin Sab Kaama.
Jaapar Prabu Prasan Havain Jhaahin,
Rakhhun Raav Karai Shan Maahin.

Parvathhu Thrun Hoi Nihaarath,
Thrunhu Ko Parvath Kari Daarath.
Raaj Milath Ban Raamhin Dheenhyo,
Kaikeyihu Ki Mathi Hari Linhiyo.

Banhu Mae Mrug Kapat Dhikaayi,
Maathu Janki Gayi Churaayi.
Lashanhin Shakthi Vikal Kari Daara,
Machiga Dhal Mae Haahaakaar.

Raavan Ki Ghathi-Mathi Bauraayi,
Ramchandra Soan Bair Badaayi.
Dhiyo Keet Kari Kanchan Lanka,
Baji Bajarang Beer Ki Danka.

Nrup Vikram Par Thuhin Pagu Dhaara,
Chitra Mayur Nigli Gai Haara.
Haar Naulakka Laagyo Chori,
Haath Pair Darvaayo Thori.

Bhaari Dhasha Nikrusht Dhikaayo
Thelhin Ghar Kholhu Chalvaayo.
Vinay Raag Dheepak Mah Khinhayo,
Thab Prasann Prabhu Hvai Sukh Dheenhayo.

Harishchandrahun Nrup Naari Bhikani,
Aaphun Bharen Dome Gar Paani.
Thai nal par dasha sirani’
Bhunji-Meen Koodh Gayi Paani.

Sri Shankarhin Gahyo Jab Jaayi,
Paarvathi Ko Sathi Karaayi.
Thanik Vilokath Hi Kari Reesa,
Nabh Udi Gayo Gaurisuth Seesa.

Paandav Par Bhay Dasha Thumhaari,
Bachi Draupadhi Hothi Udhaari.
Kaurav Ke Bi Gathi Mathi Maaryo,
Yudh Mahabharath Kari Daryo.

Ravi Kah Mukh Mahn Dhari Thathkala,
Lekar Koodhi Paryo Paathaala.
Sesh Dhev-Lakhi Vinthi Laayi,
Ravi Ko Mukh Thay Dhiyo Chudaayi.

Vaahan Prabhu Kay Sath Sujana,
Juj Dhigaj Gadharbh Mrugh Swaana.
Jambuk Sinh Aadhi Nakh Dhari,
So Phal Jyothish Kahath Pukari.

Gaj Vahan Lakshmi Gruha Aavai,
Hay Thay Sukh Sampathi Upjaavai.
Gadharbh Haani Karai Bahu Kaaja,
Sinha Sidhkar Raaj Samaja.

Jhambuk Budhi Nasht Kar Darai,
Mrug Dhe Kasht Praan Samharai.
Jab Aavahi Prabu Svan Savaari,
Choru Aaadhi Hoy Dar Bhaari.

Thaishi Chaari Charan Yuh Naama,
Swarn Laoh Chaandhi Aru Thama.
Lauh Charan Par Jab Prabu Aavain,
Daan Jan Sampathi Nashta Karavain.

Samatha Thaamra Rajath Shubhkari ,
Swarn Sarva Sarva Sukh Mangal Bhaari.
Jo Yuh Shani Charithra Nith Gavai,
Kabahu Na Dasha Nikrushta Sathavai.

Adhbuth Nath Dhikavain Leela,
Karain Shatru Kay Nashi Bhali Deela.
Jo Pundith Suyogya Bulvaayi
Vidhvath Shani Gruha Shanthi Karayi.

Peepal Jal Shani Diwas Chadavath,
Deep Dhaan Dhai Bahu Sukh Pawath.
Kahath Raam Sundhar Prabu Dhasa,
Shani Sumirath Sukh Hoth Prakasha.

|| Doha ||

Path Shanishchar Dev Ko, Ki Ho Bhakt Taiyaar,
Karat Path Chalis Din, Ho Bhavasaagar Paar.

Shani Chalisa in Hindi PDF File Download

शीर्षकश्री शनि चालीसा
फॉर्मेटपीडीएफ
साइज़214 KB
पेज3
Download Shani Chalisa PDF in Hindi Format

Shri Shani Aarti in Hindi

शनिदेव जी के बारे में दुनिया भर के लोग बहुत ही अच्छे से जानते है और उन्हे मानते हैं उनकी पूजा करते है।

शनि देव जी न्याय के देवता भी माने जाते है, उनके पिता भगवान सूर्य और माता छाया है और उनका जीवन समाज कल्याण के लिए ही हुआ है।

शनि महाराज जी की पूजा अर्चना करने से कभी रोग दोष, दरिद्रता कभी नजदीक नहीं आती है और हमेशा जीवन खुशियों से भरा रहता है।

भगवान शनि देव जी कभी भी किसी के साथ गलत नहीं होने देते है। शनि महाराज की निरंतर पूजा करने से उनका आशीर्वाद हमेशा बना रहता है।

जय शनि देव की आरती
जय जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी,
सूर्य पुत्र प्रभु छाया महातारी ,
जय जय जय शनि देव.....

श्याम अंग वक्र दृष्टि चतुर्भुजा धारी,
नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी,
जय जय जय शनि देव.....

क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी,
मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी,
जय जय जय शनि देव.....

मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी,
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी,
जय जय जय शनि देव.....

देव दनुज ऋषि मुनी सुमीरत नर नारी,
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण है तुम्हारी,
जय जय जय शनि देव......

शनि महाराज को प्रसन्न करने के लिए क्या किया जाए जिससे वो अपनी कृपा हम पर बरसा दे। शनि महाराज की कृपा जिस पर बरस जाती है वो जीवन में बहुत ही अच्छे मुकाम पर पहुँच जाता है।

शनि देव महाराज को प्रसन्न करने के उपाय
  1. हनुमान जी एवं भगवान शिव की पूजा करने से भी शनि देव प्रसन्न होते हैं। आप यहाँ क्लिक करके हनुमान चालीसा पढ़ सकते हैं।
  2. शनि मंदिर हर शनिवार जाकर भगवान शनि देव का स्मरण करते हुए उनकी प्रिय वस्तु अर्पित करें – काले तिल, काली उड़द , सरसों का तेल, लोहे की कील, काला कपड़ा इत्यादि।
  3. काले कुत्ते एवं बंदरों को कुछ खिलाने अथवा सेवा करने से भी शनि देव खुश होते हैं।
  4. पीपल के वृक्ष के आगे शनिवार के दिन सरसों के तेल का दिया शनि के दुष्प्रभावों को काम करता है।
  5. लाल चन्दन की माला को धारण करने से शनि गृह का दुष्कर्म होता है।
  6. सब जानते हैं कि काले घोड़े की नाल से बनी अंगूठी पहनने से भी कृपा बनी रहती है।
  7. सत्य बोलने वाले और वचन निभाने वाले पर सदा शनि देव प्रसन्न रहते हैं।
  8. माता पिता सम्मान करने वाला हर व्यक्ति शनि की कृपा पाता है।
  9. जहाँ तक हो सके – मदिरा एवं मांस के सेवन से बचें।
  10. शनि महाराज को ये बिलकुल भी पसंद नहीं है की कोई भी व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति का हक मार ले।
  11. शनि महाराज को चोरी और अत्याचार से बेहद नफरत है।
  12. शनि महाराज को वो व्यक्ति भी पसंद नहीं जो झूठ बोलता है।

प्रिय भक्तों, मैं उम्मीद करता हूँ कि श्री शनि चालीसा पढ़ कर एक अद्भुत शक्ति का अनुभव किया होगा अपने जीवन में। शनि महाराज की पूजा करने मात्र से आप पूरे जीवन को सफल कर सकते हैं।

“शनि देव की जय है”

आपको कोई जबरदस्ती नहीं है, हम आपसे निवेदन करते हैं कि आप शनि देव की चालीसा को दुनिया भर में फैला सकते हैं।

जितना हो सके Shri Shani Chalisa Lyrics in Hindi को आप शेयर करें।

आप Shani Dev Ki Shani Chalisa और Shani Dev Ki Aarti को फेसबुक, व्हाट्सएप्प इत्यादि पर शेयर कर सकते हैं और टिप्पणी बॉक्स में जय शनि महाराज लिख सकते हैं। “धन्यवाद’”

आरती / चालीसा / भजन: Jaya Kishori Bhajan List

Shri Shani Chalisa

About the author

Hindi Parichay Team

हमारी इस वेबसाइट को पड़ने पर आप सभी का दिल से धन्यवाद, HindiParichay.com में आपको दुनिया भर के प्रसिद्ध लोगों की जानकारी मिलेगी और यदि आपको किसी स्पेशल व्यक्ति की जानकारी चाहिए और किसी कारण वो हमारी वेबसाइट पे न मिले तो कमेंट बॉक्स में लिख दें हम जल्द से जल्द आपको जानकारी देंगे।

20 Comments

Leave a Comment