|| श्री शनि चालीसा || Shri Shani Chalisa Lyrics Download in Hindi

जय शनि देव, महाराज शनि देव जी की श्री शनि चालीसा हिंदी भाषा में|

मै आज आपको शनि देव की चालीसा, शनि देव की महानता आदि के बारे में बताऊँगा.

शनि देव की महानता का गुण गान करना अपने आप में ही एक सौभाग्य की बात है| हिंदू धर्म में शनि देव को दंडाधिकारी माना गया है। हिन्दू धर्म में शनि महाराज सबसे बड़े न्यायाधीश है.

सूर्यपुत्र शनिदेव के बारे में लोगों के बीच कई मिथ्य हैं। लेकिन मान्यता है कि भगवान शनिदेव जातकों के केवल उसके अच्छे और बुरे कर्मों का ही फल देते हैं.

शनि देव की पूजा अर्चना करने से जातक के जीवन की कठिनाइयां दूर होती है.

शिव पुराण में वर्णित है कि अयोध्या के राजा दशरथ ने शनिदेव को “श्री शनि चालीसा” से प्रसन्न किया था| शनि चालीसा निम्न है। शनि साढ़ेसाती और शनि महादशा के दौरान ज्योतिषी श्री शनि चालीसा का पाठ करने की सलाह देते हैं.

शनि देव की महिमा जिस पर भी हो जाती है वो गरीब से अमिर बन जाते हैं कमजोर से ताकतवर बन जाते हैं.

महाराज शनि देव की काहानी भी है हम उसको भी लिखेंगे लेकिन अभी शनि चालीसा का पाठ कीजिये और अपने सभी दुःख दर्द को भगवान शनि के आगे रख दीजिये.

शनि भगवान की चालीसा पढने मात्र से ही लोगों के जीवन में बदलाव आने लगते हैं लोग अपने जीवन में खुशियाँ बटोरने लगते हैं उन्हें किसी चीज की कमी महसूस नहीं होती है.

श्री शनि चालीसा पड़ते समय केवल शनि भगवान की स्तुति करें जिससे आपको कई सारे लाभ होंगे| अब हम आपको शनि चालीसा बताएँगे जो इस प्रकार है:-

श्री शनि चालीसा डाउनलोड करे हिंदी में

Shri Shani Chalisa Lyrics Download in Hindi

|| दोहा ||

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल,
दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल,
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज,
करहूँ कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज !!

#1.

!! जयति जयति शनिदेव दयाला करत सदा भक्तन प्रतिपाला,
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै माथे रतन मुकुट छवि छाजै,
परम विशाल मनोहर भाला टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला,
कुण्डल श्रवन चमाचम चमके हिये माल मुक्तन मणि दमकै !!

#2.

!! कर में गदा त्रिशूल कुठारा पल बिच करैं अरिहिं संहारा,
पिंगल, कृष्णो, छाया, नन्दन यम, कोणस्थ, रौद्र, दुःख भंजन,
सौरी, मन्द शनी दश नामा भानु पुत्र पूजहिं सब कामा,
जापर प्रभु प्रसन्न हवैं जाहीं रंकहुं राव करैं क्षण माहीं !!

#3.

!! पर्वतहू तृण होइ निहारत तृणहू को पर्वत करि डारत,
राज मिलत वन रामहिं दीन्हयो कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो,
वनहुं में मृग कपट दिखाई मातु जानकी गई चुराई,
लषणहिं शक्ति विकल करिडारा मचिगा दल में हाहाकारा !!

#4.

!! रावण की गति-मति बौराई रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई,
दियो कीट करि कंचन लंका बजि बजरंग बीर की डंका,
नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा चित्र मयूर निगलि गै हारा,
हार नौलखा लाग्यो चोरी हाथ पैर डरवायो तोरी !!

#5.

!! भारी दशा निकृष्ट दिखायो तेलहिं घर कोल्हू चलवायो,
विनय राग दीपक महँ कीन्हों तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों,
हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी आपहुं भरे डोम घर पानी,
तैसे नल पर दशा सिरानी भूंजी-मीन कूद गई पानी !!

#6.

!! श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई पारवती को सती कराई,
तनिक विकलोकत ही करि रीसा नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा,
पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी बची द्रोपदी होति उघारी,
कौरव के भी गति मति मारयो युद्ध महाभारत करि डारयो !!

#7.

!! रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला लेकर कूदि परयो पाताला,
शेष देव-लखि विनती लाई रवि को मुख ते दियो छुड़ाई,
वाहन प्रभु के सात सुजाना हय जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना,
जम्बुक सिंह आदि नख धारी सो फल ज्योतिष कहत पुकारी !!

#8.

!! गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं हय ते सुख सम्पत्ति उपजावै,
गर्दभ हानि करै बहु काजा सिंह सिद्ध्कर राज समाजा,
जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै मृग दे कष्ट प्राण संहारै,
जब आवहिं स्वान सवारी चोरी आदि होय डर भारी !!

#9.

 !! तैसहि चारि चरण यह नामा स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा,
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं,
समता ताम्र रजत शुभकारी स्वर्ण सर्वसुख मंगल भारी,
जो यह शनि चरित्र नित गावै कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै !!

#10.

!! अद्भुत नाथ दिखावैं लीला करैं शत्रु के नशि बलि ढीला,
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई विधिवत शनि ग्रह शांति कराई,
पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत दीप दान दै बहु सुख पावत,
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा !!

॥ दोहा ॥

!! पाठ शनिश्चर देव को, की हों ‘भक्त’ तैयार,
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार !!

प्रिय भक्तो मै उम्मीद करता हूँ की श्री शनि चालीसा पढ़ कर एक अद्भुत शक्ति का अनुभव किया होगा अपने जीवन में| शनि महाराज की पूजा करने मात्र से आप पुरे जीवन को सफल कर सकते हैं|

“शनि देव की जय है”

आप को कोई जबरजस्ती नहीं है हम आपसे निवेदन करते हैं की आप शनि देव की चालीसा को दुनिया भर में फैला सकते हैं.

जितना हो सके आप इसे शेयर करें आप श्री शनि चालीसा को फेसबुक, व्हाट्सएप्प इत्यादि पर शेयर कर सकते हैं और कमेंट बॉक्स में जय शनि महाराज लिख सकते हैं. “धन्यवाद’”

5 Comments

  1. Ujjwal January 3, 2019
  2. Mukut Baishya January 18, 2019
  3. Prasun February 4, 2019
  4. Bhavishya Sharma March 9, 2019
  5. Taruneha March 15, 2019

Leave a Reply